कुंबले की जुबानी- धोनी ने ऐसे किया सचिन, गांगुली, सहवाग और द्रविड़ का इस्तेमाल

Agencies
Updated: January 13, 2017, 11:27 AM IST
कुंबले की जुबानी- धोनी ने ऐसे किया सचिन, गांगुली, सहवाग और द्रविड़ का इस्तेमाल
Photo: PTI
Agencies
Updated: January 13, 2017, 11:27 AM IST
भारतीय क्रिकेट टीम के मौजूदा कोच अनिल कुंबले ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी का बतौर कप्तान करियर शानदार रहा है. उनकी कप्तानी के दौरान सबसे अहम बात में से एक यह रही कि उन्होंने टीम में सीनियर खिलाड़ियों को बखूबी संभाला.

विकेटकीपर-बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी तब कुंबले के बाद टेस्ट कप्तान बने थे, जब इस दिग्गज लेग स्पिनर ने 2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू श्रृंखला के बीच में संन्यास लेने की घोषणा की थी. कुंबले ने उस दौर को याद किया, जब धोनी को सभी तीनों प्रारूपों का कप्तान बनाया गया था.

पुणे में 15 जनवरी को इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले पहले वनडे से पहले कुंबले ने कहा, ‘पहला चरण शायद मेरे लिए आसान था. मेरी उम्र हो गई थी, मेरे लिए यह कहना आसान था कि महेंद्र सिंह धोनी जिम्मेदारी संभाले.’

धोनी का बतौर कप्तान शानदार कार्यकाल 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप में खिताबी जीत के साथ शुरू हुआ.

कुंबले ने कहा, ‘वहां से 2007 तक, 2007 से 2017 तक, कप्तानी के 10 साल शानदार रहे. इससे महेंद्र सिंह धोनी की बतौर कप्तान काबिलियत दिखी और साथ ही वह उस बदलाव के दौर के दौरान क्या हासिल करने योग्य था और उस समय पर जब सीनियर खिलाड़ी जा चुके थे. ऐसे समय में कप्तान के तौर पर टीम में आना आसान नहीं था, क्योंकि तब इतने सारे सीनियर खिलाड़ी टीम में थे. इसके बावजूद उसने बहुत अच्छी तरह उनका इस्तेमाल किया.’

कुंबले ने उस समय का जिक्र किया जब सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली, वीवीएस लक्ष्मण, वीरेंद्र सहवाग और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज धोनी की कप्तानी में खेले थे.

उन्होंने कहा, ‘धोनी ने उनसे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन ही नहीं कराया, बल्कि टीम के लिए भी यह सर्वश्रेष्ठ रहा. नंबर एक टेस्ट टीम के तौर पर ही नहीं, बल्कि बाद में विश्व कप और चैम्पियंस ट्रॉफी जीतने के बाद भी और अन्य कई जीत के बाद भी यह अच्छा रहा, जिसमें वह टीम का हिस्सा रहा था. ’

कुंबले ने कहा, ‘इस टीम में युवराज सिंह के अलावा हर किसी ने अपना करियर महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में ही शुरू किया है, इसलिए उसने ऐसा बदलाव का दौर देखा है. उसने जो हासिल किया है, उसे हासिल करना शानदार है. हम सभी जानते हैं कि खिलाड़ी, बल्लेबाज और विकेटकीपर के तौर पर उसकी कितनी अहमियत है.’

कोई भी फैसला लेना आसान नहीं है. धोनी को सलाम. यह दिखाता है कि वह कितना निस्वार्थी है. उसने शायद सोचा हो कि विराट कोहली के लिए जिम्मेदारी संभालने के लिए यह सही समय होगा. जैसा कि मुझे तब महसूस हुआ था जब मैंने सोचा था कि महेंद्र सिंह धोनी के लिए जिम्मेदारी संभालने के लिए सही समय है.

कुंबले ने कहा, ‘जैसा कि मैंने कहा कि विराट जब टीम में आया था जब महेंद्र सिंह धोनी कप्तान था, इसलिए दोनों के बीच तालमेल से विराट को बतौर कप्तान मदद ही मिलेगी.’
First published: January 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर