रणतुंगा के फिक्सिंग आरोपों को टीम इंडिया के इन खिलाड़ियों ने बताया बकवास!

News18Hindi
Updated: July 15, 2017, 12:06 AM IST
रणतुंगा के फिक्सिंग आरोपों को टीम इंडिया के इन खिलाड़ियों ने बताया बकवास!
File photo
News18Hindi
Updated: July 15, 2017, 12:06 AM IST
श्रीलंका के विश्व कप विजेता कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने 2011 क्रिकेट वर्ल्‍ड कप फाइनल के फिक्‍स होने का आरोप लगाया है. उन्‍होंने दावा किया कि मुंबई में भारत और श्रीलंका के बीच हुआ विश्व कप फाइनल मैच फिक्स था और इस मामले की जांच की मांग की गई थी.

लेकिन, इससे पहले कि दुनिया भर में रणतुंगा के इस ब्यान को चर्चा मिलती, इसे आशीष नेहरा और गौतम गंभीर ने सिरे से खारिज कर दिया, जो 2011 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा थे.

इसके अलावा भारतीय टीम के कई अन्य खिलाड़ियों ने 2011 फाइनल की जांच की मांग को 'अपमानजनक' बताया है. भारत ने वर्ल्ड कप फाइनल में श्रीलंका को छह विकेट से हराकर दूसरी बार 50 ओवर के इस टूर्नमेंट को जीता था.

गंभीर ने जताई हैरानी

फाइनल में सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले गौतम गंभीर ने रणतुंगा के इस आरोप पर हैरानी जताई. गंभीर ने कहा, 'मैं रणतुंगा के आरोपों से काफी हैरान हूं. यह बात उस खिलाड़ी ने कही है जिसका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में काफी सम्मान है. मुझे लगता है कि पूरे मसले को साफ करने के लिए उन्हें अपने आरोप को साबित करने के लिए कुछ सबूत पेश करने चाहिए.

नेहरा ने कहा - बयान पर ध्यान न दें
गंभीर के साथी खिलाड़ी और 2011 विश्व कप विजेता टीम के अहम खिलाड़ी रहे बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने कहा कि इस तरह के बयानों पर ज्यादा ध्यान नहीं देना चाहिए. नेहरा का कहना है, 'मैं रणतुंगा के इस बयान पर कोई टिप्पणी कर बात को आगे नहीं बढ़ाना चाहता. इस तरह की बातों का कोई अंत नहीं है. अगर मैं श्रीलंका के 1996 विश्व कप जीत पर सवाल उठाऊं तो क्या यह अच्छा लगेगा? तो, इस बात में नहीं पड़ना चाहिए. लेकिन, जब उनके कद का कोई व्यक्ति ऐसी बात करता है तो निराशा होती है.'

2011 टीम के एक और खिलाड़ी हरभजन सिंह तो इस आरोप को इतना घटिया मानते हैं कि उन्होंने रणतुंगा के ताजा आरोपों पर कोई टिप्पणी करने तक से इनकार कर दिया.

वैसे आपको ये बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब रणतुंगा ने 2011 वर्ल्ड कप फाइनल पर सवाल उठाए हैं. कई मंचों पर पहले भी श्रीलंका के विश्व कप विजेता कप्तान ने हैरानी जताई कि फाइनल से पहले कैसे कई खिलाड़ी चोटिल हो गए और फाइनल से हट गए.
First published: July 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर