आखिर दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट के भविष्य को लेकर क्यों चिंतित हैं पोलाक

भाषा
Updated: July 15, 2017, 1:29 PM IST
आखिर दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेट के भविष्य को लेकर क्यों चिंतित हैं पोलाक
South African क्रिकेट के भविष्य को लेकर चिंतित हैं ग्रेम पोलाक
भाषा
Updated: July 15, 2017, 1:29 PM IST
अपने ज़माने के दिग्गज क्रिकेटर ग्रेम पोलाक ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका को स्वीकार करना होगा कि नस्ल के आधार पर टीमों का चयन होने के कारण उसकी टेस्ट टीम मझधार में खड़ी है.

जब दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद की नीति हावी थी तब केवल पोलाक जैसे श्वेत खिलाड़ियों को ही अपने देश की तरफ से खेलने का मौका मिलता था. पोलाक ने स्वीकार किया कि उनके युग के खिलाड़ी अपने साथी अश्वेत खिलाड़ियों की अधिक मदद कर सकते थे लेकिन अब वह इससे चिंतित हैं कि पलड़ा अब दूसरी दिशा में अधिक झुक गया है.

दक्षिण अफ्रीका अभी इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट मैचों की सीरीज़ में 1-0 से पीछे चल रहा है. उसने पिछले सप्ताह लॉर्ड्स में पहले टेस्ट मैच में 211 रन की करारी हार का सामना करना पड़ा था.

पोलाक का मानना है कि एक टेस्ट खेलने वाले देश के रूप में दक्षिण अफ्रीका की प्रतिस्पर्धी प्रकृति राजनीतिक कारणों से प्रभावित हो रही है.

उन्होंने लंदन में एक बैठक से इतर कहा, "सबसे बड़ी समस्या राजनीति को लेकर और खिलाड़ियों के चयन में हस्तक्षेप को लेकर है. इससे टीम का प्रदर्शन प्रभावित हो रहा है. वे मैदान पर सर्वश्रेष्ठ एकादश नहीं उतार पा रहे हैं." पोलाक ने कहा, "यह कभी बदलने वाला भी नहीं है. दक्षिण अफ्रीकी होने के नाते हमें यह स्वीकार करना होगा कि दक्षिण अफ्रीका का टेस्ट क्रिकेट मझधार में फंसता जा रहा है."

ये भी पढ़ें:

गांगुली ने कहा, ज़हीर का कॉन्ट्रेक्ट साल में सिर्फ 150 दिनों के लिए था
महिला वर्ल्ड कप: भारत के पास अब आखिरी मौका, कीवी से जीतना नहीं होगा आसान
First published: July 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर