'अब द्रविड़ और ज़हीर का भी खुलेआम किया जा रहा है अपमान'

News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 1:15 PM IST
'अब द्रविड़ और ज़हीर का भी खुलेआम किया जा रहा है अपमान'
File photo : Getty
News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 1:15 PM IST
प्रशासकों की समिति के पूर्व सदस्य रामचंद्र गुहा ने बीसीसीआई द्वारा की जा रही नियुक्तियों पर कुछ ट्वीट किए हैं जो काफी विवादास्पद हैं. गुहा ने अपने एक ट्वीट में लिखा है कि राहुल द्रविड़ और जहीर खान की सलाहकार के तौर पर नियुक्ति को लटकाकर रखने से इन दो दिग्गजों का सार्वजनिक अपमान किया जा रहा है.

गुहा ने ट्वीट किया ‘अनिल कुंबले के साथ शर्मनाक व्यवहार अब जहीर खान और राहुल द्रविड़ के प्रति अपनाए जा रहे लापरवाह रवैये के रूप में नए मुकाम पर पहुंच गया है.' यही नहीं, गुहा ने यह भी लिखा कि ‘कुंबले, द्रविड़ और जहीर अपने खेल के असली दिग्गज हैं जिन्होंने फील्ड पर अपना सब कुछ दिया. वह इस तरह के सार्वजनिक अपमान के हकदार नहीं है.’





हालांकि गुहा की इस टिप्पणी पर मिली जुली राय आ रही है. जहां कुछ का कहना है कि गुहा को जब मौका दिया गया था तब उन्होंने इन समस्याओं का निपटारा नहीं किया और अब बाहर से खड़े होकर राय दे रहे हैं. वहीं दूसरी तरफ यह भी कहा गया कि गुहा भागे नहीं थे, उन्होंने नियमों में बदलाव की बात ठोस तरीके से रखी थी लेकिन उसे अनसुना कर दिया गया.





बता दें कि सीओए ने शनिवार को रवि शास्त्री की मुख्य कोच के रूप में नियुक्ति को मंजूरी दी है लेकिन बीसीसीआई ने दावा किया है कि समिति यह स्पष्ट नहीं कर पायी है कि द्रविड़ और जहीर विदेशी दौरों के लिये क्रमश: बल्लेबाजी और गेंदबाजी सलाहकार हैं या नहीं. गुहा की यह टिप्पणियां समिति की इसी उहापोह के बाद आया है.

बैठक की विवरणिका के अनुसार, ‘अन्य सलाहकारों की नियुक्ति पर फैसला समिति मुख्य कोच से परामर्श करने के बाद करेगी.’’ गौरतलब है कि गुहा ने भारतीय क्रिकेट में ‘सुपरस्टार संस्कृति’ की आलोचना करते हुए सीओए से अपना इस्तीफा दिया था. उन्होंने पूर्व खिलाड़ियों के ‘हितों के टकराव’ का मसला भी उठाया था.
First published: July 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर