चैंपियंस लीग के सेमीफाइनल में पहुंचा दिल्ली डेयरडेविल्स

आईएएनएस

Updated: October 23, 2012, 5:54 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

सेंचुरियन। मैन ऑफ द मैच चुने गए स्पिन गेंदबाज माइकल बीयर (13/3) और जोए मेनी (23/2) के नेतृत्व में अपने गेंदबाजों के उम्दा प्रदर्शन के दम पर ऑस्ट्रेलिया की पर्थ स्काचर्स टीम ने मंगलवार को सुपरस्पोर्ट पार्क मैदान पर खेले गए चैम्पियंस लीग ट्वेंटी-20 के अपने अंतिम ग्रुप मुकाबले में ऑकलैंड एसेस को 16 रनों से हरा दिया। स्कॉचर्स की इस जीत ने ऑकलैंड को सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर कर दिया जबकि ग्रुप-ए से दिल्ली डेयरडेविल्स के अलावा टाइटंस टीम को अंतिम चार में पहुंचने का मौका मिल गया।

ऑकलैंड को सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए हर हाल में यह मैच जीतना था और साथ ही यह भी दुआ करनी थी कि दक्षिण अफ्रीका की टाइटंस टीम को तालिका में सबसे ऊपर चल रहे डेयरडेविल्स पर बड़े अंतर से जीत मिले। वैसी स्थिति में टाइटंस और ऑकलैंड सेमीफाइनल में पहुंचते लेकिन पहले ही सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर हो चुकी स्कॉचर्स टीम ने ऑकलैंड का काम खराब कर दिया।

चैंपियंस लीग के सेमीफाइनल में पहुंचा दिल्ली डेयरडेविल्स
स्कॉचर्स की इस जीत ने ऑकलैंड को सेमीफाइनल की दौड़ से बाहर कर दिया जबकि ग्रुप-ए से दिल्ली डेयरडेविल्स के अलावा टाइटंस टीम को अंतिम चार में पहुंचने का मौका मिल गया।

चैम्पियंस लीग के इस संस्करण में पहली जीत दर्ज करते हुए स्कॉचर्स ने पांच टीमों की तालिका में ऑकलैंड से ऊपर चौथा स्थान पाया जबकि ऑकलैंड टीम कोलकाता नाइट राइडर्स और स्कॉचर्स के बराबरी के छह अंकों के बावजूद तालिका में सबसे नीचे खिसक गई।

स्कॉचर्स के बल्लेबाजों ने पहले तो टीम को स्पिनरों को मदद पहुंचा रही विकेट पर 140 रनों का सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया और फिर गेंदबाजों तथा क्षेत्ररक्षकों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 141 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही ऑकलैंड टीम को 20 ओवरों में आठ विकेट पर 124 रनों पर ही सीमित कर दिया।

ऑकलैंड की ओर से सलामी बल्लेबाज मार्टिन गुपटिल ने सबसे अधिक 36 रन बनाए। इसके अलावा हरफनमौला अजहर महमूद ने 24 रन और कोलिन मुनरो ने 23 रन जोड़े। महमूद ने 21 गेंदों पर चार चौके लगाए जबकि मुनरो ने 18 गेंदों पर एक चौका और एक छक्का लगाया। गुपटिल ने 32 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्का जड़ा।

इससे पहले, टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए स्कॉचर्स ने ऑकलैंड टीम के सामने 141 रनों का लक्ष्य रखा। स्कॉचर्स ने 20 ओवरों में सात विकेट गंवाकर 140 रन बनाए। इसमें कप्तान मार्कस नॉर्थ के 37 और पॉल कोलिंगवुड के 38 रन शामिल हैं। इसके अलावा साइमन कैटिच ने 21 और टॉम बीटन ने 22 रनों का योगदान दिया।

स्कॉचर्स की शुरुआत अच्छी नहीं रही। उसने हर्शेल गिब्स (6) के रूप में अपना पहला विकेट महज सात रन के कुल योग पर गंवा दिया था लेकिन इसके बाद नॉर्थ और कैटिच ने दूसरे विकेट के लिए 55 रन जोड़े।

नॉर्थ का विकेट 62 रन के कुल योग पर गिरा। उन्होंने 35 गेंदों का सामना करते हुए चार चौके और एक छक्का लगाया। नॉर्थ रन आउट हुए। कैटिच का विकेट 67 रन के कुल योग पर ही गिर गया लेकिन इसके बाद बीटन और कोलिंगवुड ने स्कोर को 118 रनों तक पहुंचाया। इसी योग पर बीटन आउट हुए।

बीटन ने अपनी 19 गेंदों की तेज पारी में एक चौका और एक छक्का लगाया। कोलिंगवुड 27 ने गेंदों का सामना करते हुए पांच चौके लगाए। ल्यूक रोंची (4), जोए मेनाने (2) ने निराश किया। ब्रैड हॉग चार रन पर नाबाद लौटे। ऑकलैंड की ओर से माइकल बेट्स ने चार विकेट हासिल किए जबकि रोनी हीरा को एक सफलता मिली।

First published: October 23, 2012
facebook Twitter google skype whatsapp