वो खिलाड़ी जिसकी वजह से धोनी को भी रहना पड़ा था वेटिंग लिस्ट में

विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: May 19, 2017, 10:39 PM IST
वो खिलाड़ी जिसकी वजह से धोनी को भी रहना पड़ा था वेटिंग लिस्ट में
Image Source: BCCI/News18
विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: May 19, 2017, 10:39 PM IST
चयनकर्ता कॉलिंग कार्तिक!
मनीष पांडे के चोटिल होने पर जिस खिलाड़ी को टीम इंडिया में जगह मिली है उसका नाम दिनेश कार्तिक है. शायद नई पीढ़ी के क्रिकेट प्रेमियों को ये पता ना हो लेकिन हकीकत यही है कि आज करीब एक दशक पहले कार्तिक को धोनी से बेहतर कीपर-बल्लेबाज़ माना जाता था. यकीन नहीं होता है ना! सच्चाई यही है कि धोनी के टेस्ट क्रिकेट खेलने से पहले कार्तिक भारत के लिए टेस्ट खेल चुके थे. बहरहाल, जब धोनी आये तो इस कदर छाये कि एक दशक तक कार्तिक तो क्या किसी भी विकेटकीपर बल्लेबाज़ के लिए टीम इंडिया में आना मुश्किल हो गया. अगर पार्थिव पटेल और नमन ओझा जैसे खिलाड़ियों को बीच में कुछ मौके मिले थे लेकिन आज भी रिषभ पंत जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ी को इतंज़ार करना पड़ रहा है.

कार्तिक की कहानी से आप भी ले सकतें हैं प्रेरणा
चेन्नई के खिलाड़ी कार्तिक की ख़ासियत ये है कि उन्होंने टीम इंडिया में वापसी की उम्मीदें कभी नहीं छोड़ी. चुनिंदा अवसर मिलने के बावजूद वो भारत के लिए अब तक 23 टेस्ट और 71 वनडे खेल चुके हैं. कार्तिक का नज़रिया इस बात के लिए प्रेरणादायक है कि हालात चाहें कितने भी विपरीत हों, वापसी की उम्मीद इंसान को कभी नहीं छोड़नी चाहिए.

Image Source: News18


क्या रैना से बेहतर हैं कार्तिक?

इस बात पर भी चर्चा छिड़ी है कि आखिर पांडे के अनफिट होने पर अनुभवी सुरेश रैना को टीम में जगह क्यों नहीं मिली? इसकी मूल वजह है घरेलू क्रिकेट में कार्तिक का असाधारण खेल.

रणजी ट्रॉफी में करीब 54 की औसत से 704 रन, विजय हज़ारे और देवधर ट्रॉफी (50 ओवर वाली क्रिकेट) में 85 से ज़्यादा की औसत से 854 रन. इतना ही नहीं संघर्ष करती हुई गुजरात लॉयंस के लिए भी इस आईपीएल में 361 रन वो भी करीब 140 के स्ट्राइक रेट से.
First published: May 19, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर