कोई भी गेंदबाज़ नहीं लगा पाएगा आईपीएल में ऐसी हैट्रिक

विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: April 18, 2017, 11:12 AM IST
कोई भी गेंदबाज़ नहीं लगा पाएगा आईपीएल में ऐसी हैट्रिक
Image Source: IPL
विमल कुमार@Vimalwa | News18Hindi
Updated: April 18, 2017, 11:12 AM IST

सिर्फ 10 साल में ही आईपीएल में 16 हैट्रिक लग चुकी हैं. यानी तीन गेंदों पर तीन विकेट हासिल करने का ऐसा कमाल जिसे क्रिकेट में कुछ दशक पहले तक अदभुत उपलब्धि माना जाता था. सिर्फ 2015 इकलौता ऐसा साल रहा जब आईपीएल में कोई गेंदबाज़ हैट्रिक नहीं ले पाया.

बीते शनिवार को वेस्टइंडीज़ के सैमुअल बद्री और एंड्रयू टाय ने इसमें एक दिलचस्प अध्याय जोड़ दिया जब एक ही दिन अलग-अलग दो मैचों में दो गेंदबाजों ने हैट्रिक जमाई.

2014 में राजस्थान रॉयल्स के लिए खेलते हुए प्रवीन तांबे ने एक अनोखी हैट्रिक लगायी थी जिसके लिए उन्होंने तीन नहीं बल्कि 2 गेंद में ही ये कमाल कर दिखाया. दरअसल, तांबे का तीसरा विकेट वाइड गेंद पर था जिसके चलते भले ही उनकी गेंद मान्य नहीं हुई लेकिन विकेट मान्य था क्योंकि बल्लेबाज़ स्टंप आउट हुआ.

आम-तौर पर टी20 में बल्लेबाज़ों के रिकॉर्ड को याद रखना मुश्किल होता है क्योंकि हर दूसरे दिन नए रिकॉर्ड बन जाते हैं लेकिन गेंदबाज़ों के हैट्रिक को ख़ास अहमियत अभी भी मिल जाती है क्योंकि ये हासिल करना इतना आसान नहीं है. टेस्ट क्रिकेट में 15 हैट्रिक के लिए करीब 9 दशक लग गए जबकि वन-डे में दो दशक.

यानि ये आंकड़े इस बात की तरफ इशारा करते हैं कि फॉर्मेंट जितना छोटा हो, हैट्रिक की संभावना उतन ज़्यादा बढ़ जाती है. युवराज ने 2009 में अकेले ही 2 बार हैट्रिक जमा दी थी.

भारत के लिए वनडे क्रिकेट में पहली बार हैट्रिक लेने वाले चेतन शर्मा ने मुझे एक बार कहा था कि-

chetan-1

शर्मा के अलावा कपिल देव ने वन-डे और हरभजन सिंह 

इरफान पठान ने टेस्ट क्रिकेट में भारत के लए हैट्रिक ली हैं

हैट्रिक वाले अनोखी त्रिमूर्ति

ह्यू ट्रंबल, जिमी मैथ्यूज़ और वसीम अकरम उन चुनिंदा तीन खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने टेस्ट में 1 नहीं बल्कि 2 बार हैट्रिक ली. अकरम ने तो लगातार 2 टेस्ट में ये कमाल किया.

कोई भी गेंदबाज़ नहीं लगा पाएगा ऐसी हैट्रिक!

लेकिन, इस त्रिमूर्ति में मैथ्यूज़ की हैट्रिक तो ना भूतो और ना भविष्यति जैसी है. 28 मई 1912 को मैथ्यूज़ ने एक ही दिन टेस्ट क्रिकेट की दो पारियों में हैट्रिक जमा दी जिसके नज़दीक भी कोई गेंदबाज़ आज तक नहीं पहुंच पाया है. इतना ही नहीं मैथ्यूज़ को अपनी हैट्रिक हासिल करने के लिए किसी भी फील्डर का सहारा भी नहीं लेना पड़ा था!

First published: April 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर