माराडोना को सता रहा डर, वर्ल्ड कप-2018 में हो सकता है अर्जेंटीना का ये हाल

आईएएनएस

Updated: November 2, 2016, 7:30 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

ब्यूनस आयर्स| फुटबॉल के दिग्गज खिलाड़ी माराडोना को अर्जेंटीना के वर्ल्ड कप-2018 से बाहर होने का डर है। विश्व कप-2018 का आयोजन रूस में होना है और यह एक माह तक चलेगा। पूर्व स्टार खिलाड़ी और राष्ट्रीय टीम के पूर्व कोच ने कहा कि फुटबॉल के निर्णय लेने वाले संगठनों में उनके देश के हितों के बारे में कोई नहीं सोच रहा है।

ये कहा माराडोना ने

माराडोना को सता रहा डर, वर्ल्ड कप-2018 में हो सकता है अर्जेंटीना का ये हाल
(Getty images)

माराडोना ने कहा कि दक्षिण अमेरिकी फुटबॉल परिसंघ (कॉनमेबोल) या फीफा में 'उनके देश का कोई भी प्रतिनिधि नहीं है। अर्जेंटीना फुटबॉल संघ (एएफए) का जिक्र करते हुए 56 वर्षीय माराडोना ने कहा- हमारे लिए खड़ा होने वाला कोई नहीं है। एएफए में क्या हो रहा है, इस बारे में मैं चिंता क्यों न करूं? एएफए द्वारा चयन के बारे में माराडोना ने कहा कि वे किसी को भी शामिल कर ले रहे हैं। उन्होंने कहा- हम रूस विश्व कप से ही नहीं, बल्कि अंडर-15, अंडर-16, अंडर-18 और अंडर-20 सहित विश्व स्तर पर होने वाले सभी खेलों से बाहर हो सकते हैं।

डर की असल वजह है ये

फीफा ने हाल ही में एक अयोग्य खिलाड़ी को टीम में शामिल करने पर बोलीविया पर दक्षिण अमेरिकी क्वालीफाइंग टूर्नामेंट के दो मुकाबलों का प्रतिबंध लगाया है। इस फैसले से चिली को टूर्नामेंट की रैंकिंग में 16 अंकों के साथ पांचवें स्थान पर पहुंचने में मदद मिली, वहीं अर्जेंटीना छठे स्थान पर आ गया है। इस स्थिति को देखते हुए माराडोना ने यह बयान दिया है।

एएफए की सफाई जरूरी

माराडोना ने कहा कि एएफए की सफाई जरूरी है और अधिकारियों ने जो धन बनाया है उसे उन्हें लौटाने पर मजबूर करना चाहिए या फिर जेल भेज देना चाहिए। 10 नवंबर को बेलो होरीजोंते में अर्जेंटीना का मुकाबला ब्राजील से होगा, वहीं 15 नंबवर को वह कोलंबिया से भिड़ेगा।

First published: November 2, 2016
facebook Twitter google skype whatsapp