उस सोच की भी धुलाई करती हैं मिताली, जिसमें महिलाओं को माना जाता है कमजोर

Gauri Shankar | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 3:23 PM IST
उस सोच की भी धुलाई करती हैं मिताली, जिसमें महिलाओं को माना जाता है कमजोर
कप्तान Mithali Raj के नाम हो सकते हैं ये दो बड़े रिकॉर्ड
Gauri Shankar | News18Hindi
Updated: July 17, 2017, 3:23 PM IST
मुझे ऑस्ट्रेलिया और इंडिया के मैच का बेसब्री से इंतज़ार है. मुझे क्या मेरे जैसे बहुत से क्रिकेट प्रेमियों को इस दिन का इंतज़ार हैं और ये महिला क्रिकेट मैच का उत्साह है. इसकी वजह सिर्फ मिताली राज हैं.

मिताली राज कौन हैं? वह भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तान हैं. उनका जन्म 1982 में जोधपुर (राजस्थान) में हुआ था.

मिताली के शुरुआती दिन क्लासिकल डांस सीखते हुए गुज़रे. तमिल परिवार में जन्म की वजह से डांस प्रति परिवार का झुकाव स्वाभाविक था. हालांकि वह बचपन में आलसी भी थीं.

अनुशासनप्रिय पिता दुराई राज को मिताली का यह आलसी रवैया पसंद नहीं था. इस वजह से उन्होंने मिताली को 10 साल की बेहद कम उम्र में ही बल्ला थमा दिया. इस उम्र में आमतौर पर कोई भारतीय पिता अपनी बेटियों को बल्ला नहीं थमाता. पर मिताली के पिता अलग थे.

मिताली ने वुमंस वर्ल्ड कप 2017 में शानदार प्रदर्शन कर देश की कई बेटियों को प्रेरित किया होगा कि वो भी उनकी तरह क्रिकेट का 'बल्ला' या 'गेंद' थामें और मैदान में अपना दम दिखाए. हमारे देश में किसी भी खेल को आगे बढ़ाने में किसी खिलाड़ी की सफलता ने 'संजीवनी' का काम किया है. कई लोग इसके उदाहरण हैं.

मिताली ने अपने गेम की वजह से भारतीय महिला क्रिकेट में कई बंद दरवाजे खोले हैं. भविष्य में उसका असर दिखाई देगा....

First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर