धोनी की जुबानी जानिए क्यों छोड़ी वनडे-टी20 की कप्तानी

Pradesh18

First published: January 13, 2017, 3:43 PM IST | Updated: January 13, 2017, 3:54 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
धोनी की जुबानी जानिए क्यों छोड़ी वनडे-टी20 की कप्तानी
ये तो सभी जानते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट के सभी फॉर्मेट की कप्तानी अब छोड़ चुके हैं, लेकिन उनके फैंस को अभी निराश होने की जरुरत नहीं है. आपके फेवरेट 'कैप्टन कूल' एक बार फिर कप्तानी की कमान संभालने वाले हैं. हालांकि, ये आखिरी बार होगा जब धोनी किसी मैच की कप्तानी करेंगे. आईपीएल के अलावा, ये अंतिम बार होगा जब टीम के खिलाड़ियों की सूची में उनके नाम के आगे 'कप्तान' लिखा होगा. बता दें कि टेस्ट कप्तानी पहले से ही छोड़ चुके महेंद्र सिंह धोनी ने हाल ही में वनडे और टी20 टीम की कप्तानी भी छोड़ दी. जिसके बाद विराट कोहली को क्रिकेट के तीनों फॉरनेट का कप्तान बनाया गया है. महेंद्र सिंह धोनी ने यह फैसला टीम के चयन होने से पहले ही बता दिया था, लेकिन जब चयनकर्ताओ की बैठक के बाद सबको पता चला कि धोनी अभी एक मैच और कप्तानी करेंगे तो सब क्रिकेट प्रेमी उस मैच को देखने के लिए बहुत ज्यादा उत्सुक हैं. (PICS : AFP)

वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए महेंद्र सिंह धोनी ने साफ कर दिया कि उन्होंने यह फैसला क्यों लिया है. धोनी ने साफ तौर से कहा कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज में ही उन्होंने कप्तानी छोड़ने का फैसला ले लिया था. वे बस उस समय इंतजार कर रहे थे कि विराट कोहली टेस्ट, वनडे और टी20 की कप्तानी संभालने के लिए परिपक्व हो जाएं. अब लगा कि विराट इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं तो उन्होंने कप्तानी छोड़ दी.

पुणे के एमसीए स्टेडियम में धोनी ने कहा कि भारत में क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के लिए अलग-अलग कप्तान काम नहीं करती. वे खुद भी इसके पक्ष में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि विराट कोहली हमेशा से कप्तानी की जिम्मेदारी संभालने के लिए तैयार थे, सही समय आने पर उन्हें ये जिम्मेदारी सौंप दी गई.

'टीम इंडिया हर फॉर्मेट में नंबर वन बनने के काबिल'

धोनी ने कहा कि क्रिकेट के फॉर्मेट के हिसाब से कप्तानों के होने से लोग तुलना करते रहते हैं. जबकि वर्तमान की टीम इंडिया खेल के सभी फॉर्मेट में मैच जीतने और नंबर वन बनने का दम रखती है. विराट टेस्ट की कप्तानी में पूरी तरीके से फिट हो गए हैं. वर्तमान की वनडे और टी20 टीम से भी उन्हें मैच जीतने में मुश्किल नहीं आएगी.

'विराट नहीं मानेंगे मेरी सलाह तो मुझे बुरा नहीं लगेगा'

पूर्व दिग्गज कप्तान धोनी ने कहा कि विराट एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो हमेशा खुद में सुधार लाते रहते हैं. टीम के लिए वे हमेशा अच्छा करने की कोशिश में रहते हैं. धोनी ने कहा कि अगर वे कोहली को 100 सलाह देते हैं और वे सभी मना कर देते हैं तो इसमें उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी. वे चाहते हैं कि टीम के ऐसा रिश्ता बना रहे जिसमें सीनियर खिलाड़ी सलाह तो दें, लेकिन कप्तान के तौर पर उसे मानने की बाध्यता या मजबूरी न हो.

'मैं विराट को सलाह देता रहूंगा'

धोनी ने कहा कि विकेट के पीछे खड़ेू होकर वे विराट को हमेशा सलाह देते रहेंगे. साथ ही ये भी कहा कि वे टीम के बाकी खिलाड़ियों की ताकत पहचानकर उन्हें बताता रहूंगा. साथ ही खिलाड़ियों को अपना बेस्ट प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करता रहूंगा. एक सीनियर खिलाड़ी के तौर पर मेरी जिम्मेदारी है कि मैं युवा खिलाड़ियों को प्रेरित करूंं.

facebook Twitter google skype whatsapp