धोनी की जुबानी जानिए क्यों छोड़ी वनडे-टी20 की कप्तानी

Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 3:54 PM IST
Pradesh18
Updated: January 13, 2017, 3:54 PM IST
वनडे और टी20 की कप्तानी छोड़ने के बाद पहली बार मीडिया के सामने आए महेंद्र सिंह धोनी ने साफ कर दिया कि उन्होंने यह फैसला क्यों लिया है. धोनी ने साफ तौर से कहा कि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेली गई वनडे सीरीज में ही उन्होंने कप्तानी छोड़ने का फैसला ले लिया था. वे बस उस समय इंतजार कर रहे थे कि विराट कोहली टेस्ट, वनडे और टी20 की कप्तानी संभालने के लिए परिपक्व हो जाएं. अब लगा कि विराट इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं तो उन्होंने कप्तानी छोड़ दी.

पुणे के एमसीए स्टेडियम में धोनी ने कहा कि भारत में क्रिकेट के तीनों फॉर्मेट के लिए अलग-अलग कप्तान काम नहीं करती. वे खुद भी इसके पक्ष में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि विराट कोहली हमेशा से कप्तानी की जिम्मेदारी संभालने के लिए तैयार थे, सही समय आने पर उन्हें ये जिम्मेदारी सौंप दी गई.

'टीम इंडिया हर फॉर्मेट में नंबर वन बनने के काबिल'

धोनी ने कहा कि क्रिकेट के फॉर्मेट के हिसाब से कप्तानों के होने से लोग तुलना करते रहते हैं. जबकि वर्तमान की टीम इंडिया खेल के सभी फॉर्मेट में मैच जीतने और नंबर वन बनने का दम रखती है. विराट टेस्ट की कप्तानी में पूरी तरीके से फिट हो गए हैं. वर्तमान की वनडे और टी20 टीम से भी उन्हें मैच जीतने में मुश्किल नहीं आएगी.

'विराट नहीं मानेंगे मेरी सलाह तो मुझे बुरा नहीं लगेगा'

पूर्व दिग्गज कप्तान धोनी ने कहा कि विराट एक ऐसे खिलाड़ी हैं जो हमेशा खुद में सुधार लाते रहते हैं. टीम के लिए वे हमेशा अच्छा करने की कोशिश में रहते हैं. धोनी ने कहा कि अगर वे कोहली को 100 सलाह देते हैं और वे सभी मना कर देते हैं तो इसमें उन्हें कोई परेशानी नहीं होगी. वे चाहते हैं कि टीम के ऐसा रिश्ता बना रहे जिसमें सीनियर खिलाड़ी सलाह तो दें, लेकिन कप्तान के तौर पर उसे मानने की बाध्यता या मजबूरी न हो.

'मैं विराट को सलाह देता रहूंगा'

धोनी ने कहा कि विकेट के पीछे खड़ेू होकर वे विराट को हमेशा सलाह देते रहेंगे. साथ ही ये भी कहा कि वे टीम के बाकी खिलाड़ियों की ताकत पहचानकर उन्हें बताता रहूंगा. साथ ही खिलाड़ियों को अपना बेस्ट प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित करता रहूंगा. एक सीनियर खिलाड़ी के तौर पर मेरी जिम्मेदारी है कि मैं युवा खिलाड़ियों को प्रेरित करूंं.
First published: January 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर