एक्सक्लूसिव: क्या मीडिया की अनदेखी से नाराज हो गया भारत का महानतम एथलीट?

नित्यानंद पाठक | News18Hindi
Updated: March 9, 2017, 6:27 PM IST
एक्सक्लूसिव: क्या मीडिया की अनदेखी से नाराज हो गया भारत का महानतम एथलीट?
(news18hindi.com)
नित्यानंद पाठक | News18Hindi
Updated: March 9, 2017, 6:27 PM IST
नई दिल्ली में बुधवार को एक निजी कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए भारत के इकलौते ओलंपिक गोल्ड मेडल विनर अभिनव बिंद्रा भी पहुंचे . उनके अलावा इस इवेंट में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव वॉ, फुटबॉलर रायन गिग्स और पूर्व टेनिस खिलाड़ी बोरिस बेकर भी मौजूद रहे. मेन इवेंट खत्म होने के बाद विदेशी स्पोर्ट्स स्टार्स तो रुके, लेकिन बिंद्रा बहुत ही जल्दी में निकल गए. बिंद्रा की इस हड़बड़ी की शायद सबसे बड़ी वजह रही मीडिया की अनदेखी.

बिंद्रा में नहीं दिखाई किसी ने दिलचस्पी
मेन इवेंट के दौरान भी अधिकतर सवाल स्टीव वॉ से किए जा रहे थे. उनके अलावा सबसे अधिक मीडिया अटेंशन बेकर और गिग्स को मिली. चौंकाने वाली बात ये थी कि ओलंपिक-2004 में गोल्ड मेडल जीतकर देश का मान बढ़ाने वाले बिंद्रा से एक भी सवाल नहीं पूछा गया. जैसे ही इवेंट खत्म हुआ मीडियाकर्मी स्टीव वॉ, बोरिस और गिग्स की ओर तो लपके, लेकिन बिंद्रा में किसी ने दिलचस्पी नहीं दिखाई.

इस वजह से निकल गए बिंद्रा

शायद इस बात का अंदाजा पहले ही रियो ओलंपिक में फ्लॉप रहे शूटर को हो गया था. इसी वजह से वे इवेंट के खत्म होते ही निकल गए. इस दौरान न तो कोई मीडियाकर्मी उनकी ओर लपकता दिखाई दिया और न ही होस्ट. गौरतलब है कि स्टीव वॉ करीब एक से दो घंटे तक तो सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से ही बात करते रहे. वॉ को मिली मीडिया अटेंशन की सबसे बड़ी वजह रही इंडिया बनाम ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज और उसकी कॉन्ट्रोवर्सीज. गिग्स और बेकर से भी बाच-चीत करने में पत्रकारों ने खूब दिलचस्पी दिखाई.

...तो क्या किसी के पास सवाल ही नहीं थे?
लेकिन, ना तो प्रेस कांफ्रेस में बिंद्रा से एक भी सवाल किया गया और ना ही उनसे अलग से इटंरव्यू की कोशिश की गई. तो क्या किसी के पास एक भी ऐसा सवाल नहीं था जो इंडियन स्टार्स से पूछा जा सके? हालांकि इसका दूसरा पहलू ये भी हो सकता है कि बिंद्रा ऐसे एथलीट माने जाते हैं तो मीडिया से कम ही बात करते हैं. वहीं दूसरी ओर इस इवेंट में तीन ऐसे दिग्गज और भी शामिल थे जो दो-चार साल में मुश्किल से ही इंडियन मीडिया के हाथ आने वाले थे.
First published: March 9, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर