कैमिस्ट्री कप में हिस्सा नहीं ले सकेंगे इंडियन बॉक्सर, ये है वजह

News18Hindi

Updated: March 13, 2017, 4:06 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

नई दिल्ली। भारतीय मुक्केबाज वीजा समय पर नहीं मिलने के कारण जर्मनी में होने वाले कैमिस्ट्री कप में नहीं खेल पाएंगे. हालांकि नेशनल एसोसिएशन ने आश्वस्त किया है कि मुक्केबाजों को जल्द ही एक अन्य टूर्नामेंट में भेजकर इसकी भरपाई की जाएगी. दो एशियाई युवा पदकधारी वाली इस नयी दस सदस्यीय टीम को आज रात जर्मनी में हाले के लिए रवाना होना था. लेकिन वीजा नहीं बनने से योजना विफल हो गयी.

इसलिए नहीं हो सका वीजा का इंतजाम

कैमिस्ट्री कप में हिस्सा नहीं ले सकेंगे इंडियन बॉक्सर, ये है वजह
(Getty images)

भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) के अध्यक्ष अजय सिंह ने कहा कि वीजा नहीं मिल सके क्योंकि हमें काफी बाद में पता चला कि शेनजेन वीजा के आवदेन उसी क्षेत्र से भरे जाते हैं जहां के आप होते हो. हम एक केंद्रीकृत प्रक्रिया अपनाते थे जो दिल्ली से की जाती थी. उन्होंने कहा कि लेकिन इस बार, हमें बताया गया कि आवेदन क्षेत्रीय केंद्र से ही भरे जा सकते हैं, जहां के मुक्केबाज हैं. इस प्रक्रिया में काफी समय बर्बाद हो गया था और वीजा समय पर नहीं मिले.

दूसरे टूर्नामेंट में भेजकर करेंगे भरपाई

उन्होंने कहा कि उन्हें निराश नहीं होना चाहिए, हम अगले 20 दिन में कुछ निमंत्रण टूर्नामेंट के लिए बातचीत कर रहे हैं. इस टीम ने एशियाई युवा रजत पदकधारी अंकुश दहिया (60 किग्रा) और रेयाल पुरी (81 किग्रा) थे. कैमिस्ट्री कप 13 से 18 मार्च तक आयोजित होगा. टीम के एक अन्य सदस्य के श्याम कुमार (49 किग्रा) ने किंग्स कप कहे जाने वाले टूर्नामेंट के 2015 चरण का स्वर्ण पदक जीता है. बैंथमवेट वजन वर्ग में मोहम्मद हुसामुद्दीन शामिल हैं. जिन्होंने पिछले महीने बुल्गारिया में रजत पदक जीता था. राष्ट्रमंडल खेलों के पूर्व स्वर्ण पदकधारी अनुभवी मुक्केबाज मनोज कुमार को वेल्टरवेट 69 किग्रा वर्ग में चुना गया है.

टीम इस प्रकार है. के श्याम कुमार (49 किग्रा), एल देवेंद्रो सिंह (52 किग्रा), मोहम्मद हुसामुद्दीन (56 किग्रा), शिव थापा (60 किग्रा), रोहित टोकस (64 किग्रा), मनोज कुमार (69 किग्रा), विकास कृष्ण (75 किग्रा).

First published: March 13, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp