टोक्यो ओलंपिक में कमाल करने वालों को मिलेगा 'कचरा' मेडल

News18Hindi

Updated: February 3, 2017, 11:12 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

अब तक आपने सोना, चांदी और कांसा से बने मेडल के बारे में सुना होगा, लेकिन जापान की राजधानी टोक्यो में होने वाले ओलंपिक में खिलाड़ियों को कचरे से बना मेडल दिया जाएगा. यह बात आपको थोड़ी अटपटी लगेगी, लेकिन यह सौ फीसदी सच है.

दरअसल, टोक्यो में 2020 में होने वाले ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों में दिए जाने वाले मेडल पुराने मोबाइल फोन और इ-वेस्ट से तैयार किए जाएंगे. इसके लिए जापान के लोगों से पुराने मोबाइल फोन जमा करने को कहा गया है.

टोक्यो ओलंपिक में कमाल करने वालों को मिलेगा 'कचरा' मेडल
ओलंपिक मे

ओलंपिक के आयोजकों का कहना है कि वे इस तरीके को अपनाकर देश से लाखों टन ई वेस्ट का उपयोग कर पाएंगे. उन्हें उम्मीद है कि ई वेस्ट से वे मेडल्स के लिए आठ टन धातु इक्ट्ठा कर पाएंगे. इनसे दो टन के स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक तैयार किए जाएंगे.

बयान में कहा गया है कि फोन के अलावा दूसरी बेकार इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के ई वेस्ट से भी पांच हजार मेडल बनाने की योजना है.

इस प्रयोग को पर्यावरण संरक्षण और ओलंपिक आयोजन के खर्च में कमी लाने के लिए किया जा रहा है. टोक्यो 2020 स्पोर्ट्स डायरेक्टर कोजी मुरोफुशी ने कहा है कि जापान के लोगों के सहयोग से मेडल तैयार करने की योजना प्रेरणा देने वाली है.

उन्होंने बताया कि जापान की ओलंपिक आयोजन समिति के सदस्य ने सरकारी अधिकारियों और कंपनियों के समक्ष यह विचार 2016 में रखा था. आमतौर पर ओलंपिक का आयोजन करने वाले शहरों को खानों से निकलने वाली धातु उपलब्ध कराई जाती है. चूंकि, जापान के पास धातु की खानों की कमी है, इसलिए यह तरीका निकाला गया है.

First published: February 3, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp