जन्मदिन विशेष: सानिया मिर्जा कैसे बनी टेनिस सनसनी!

स्मिता चंद | News18India.com
Updated: November 15, 2016, 3:04 PM IST
जन्मदिन विशेष: सानिया मिर्जा कैसे बनी टेनिस सनसनी!
भारत की टेनिस सनसनी से सुपर सानिया में तब्दील हुईं दुनिया के नंबर एक युगल टेनिस प्लेयर सानिया मिर्जा ने एक बार फिर इतिहास रचा है।
स्मिता चंद | News18India.com
Updated: November 15, 2016, 3:04 PM IST
नई दिल्ली। भारत की टेनिस सनसनी और डबल्स में वर्ल्ड की नंबर वन महिला टेनिस स्टार सानिया मिर्जा का आज जन्मदिन है। उनका जन्म आज ही के दिन 15 नवंबर 1986 को मुंबई में हुआ था। उनकी शुरुआती पढ़ाई हैदराबाद के एनएएसआर स्कूल में हुई। हैदराबाद के ही सेंट मैरी कॉलेज से उन्होंने स्नातक किया। सानिया के पिता इमरान खेल रिपोर्टर थे और मां नसीमा मुंबई में प्रिंटिंग व्यवसाय से जुड़ी एक कंपनी में काम करती थीं। सानिया का बचपन पारंपरिक शिया खानदान में गुजरा। सानिया को कामयाब बनाने में उनके पिता का अहम योगदान है। हैदराबाद के निजाम क्लब में सानिया ने छ्ह साल की उम्र से टेनिस खेलना शुरू किया। महेश भूपति के पिता और भारत के सफल टेनिस प्लेयर सीके भूपति से सानिया ने अपनी शुरुआती कोचिंग ली। पैसे की कमी के चलते सानिया के पिता ने कुछ बड़े व्यापारिक समूहों से स्पांसरशिप ली। हैदराबाद से शुरुआत करने के बाद वह अमेरिका की टेनिस अकेडमी गईं।

 

sn2

17 साल में विंबलडन चैंपियन

सानिया ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत 1999 में विश्व जूनियर टेनिस चैंपियनशिप में हिस्सा लेकर की। उस समय वे महज 14 साल की थीं। उसके बाद उन्होंने कई अंतरराष्ट्रीय मैचों में शिरकत की और सफलता भी पाई। 2003 में उनकी किस्मत चमकी जब वाइल्ड कार्ड एंट्री करने के बाद उन्होंने जूनियर विंबलडन में डबल्स में जीत हासिल की।



सानिया की उपलब्धियां

2007 के मध्य में सानिया की एकल में अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग 27 तक पहुंच गई थी जो किसी भी भारतीय महिला टेनिस खिलाड़ी के लिए सबसे ज्यादा थी। 2006 में दोहा में हुए एशियाई खेलों में उन्होंने लिएंडर पेस के साथ मिश्रित युगल का स्वर्ण पदक जीता। महिलाओं के एकल मुकाबले में दोहा एशियाई खेलों में उन्होंने रजत पदक जीता। 2009 में उन्होंने महेश भूपति के साथ ऑस्ट्रेलियन ओपन का मिक्स डबल्स खिताब जीता। इसी के साथ वो ग्रैंड स्लैम जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं। इसी साल अप्रैल में सानिया और हिंगिस की जोड़ी ने नंबर-1 की रैंकिंग हासिल की। वे नंबर वन टेनिस रैंकिंग तक पहुंचने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी बनीं। वे पिछले एक दशक से भी ज्यादा समय से भारत की नंबर वन महिला टेनिस प्लेयर बनी हुई हैं।

sn4

सानिया के ग्रैंड स्लैम:

-2009 में महेश भूपति के साथ ऑस्ट्रेलियन ओपन का मिक्स डबल्स खिताब जीता।

-2012 में महेश भूपति के साथ फ्रेंच ओपन मिक्स डबल्स खिताब जीता।

-2014 में ब्राजील के ब्रूनो सुआरेस के साथ यूएस ओपन मिक्स डबल्स खिताब जीता।

-2015 में मार्टिना हिंगिस के साथ विंबलडन का युगल खिताब भी अपने नाम किया।

-इसके अलावा सानिया मिर्जा मिक्स डबल में दो बार व डबल में एक बार उपविजेता भी रही हैं।

सानिया को मिले सम्मान

16 साल की उम्र में 2004 में सानिया मिर्जा को अर्जुन अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। महज 18 साल की उम्र में 2006 में 'पद्मश्री' दिया गया। वो यह सम्मान पाने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी बनीं। 2006 में ही सानिया को अमेरिका में विश्व की टेनिस की दिग्गज हस्तियों के बीच डब्लूटीए का 'मोस्ट इम्प्रेसिव न्यू कमर' चुना गया। सानिया को पूरे करियर में 50 लाख डॉलर (31.60 करोड़ रुपये) की पुरस्कार राशि मिल चुकी है।

saniapic6

खेल से इतर भी कई बार चर्चा में रहीं सानिया

व्यक्तिगत जीवन में सानिया कई बार खेल से इतर चर्चा में रही हैं। मुस्लिम होने के कारण 2005 में उनके खेलने के विरुद्ध फतवा तक जारी कर दिया गया था। इसके बाद उनकी टेनिस ड्रेस पर सवाल उठे। 2009 में सानिया की सगाई उनके बचपन के दोस्त सोहराब मिर्जा से हुई, लेकिन ये सगाई जल्द ही टूट गई और वो पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक के साथ दिखने लगीं। इसके कुछ महीने बाद 12 अप्रैल 2010 को उन्होंने शोएब मलिक के साथ निकाह रचाया। 2014 में नवगठित भारतीय राज्य तेलंगाना की ब्रांड एंबेसडर बनाए जाने पर सानिया फिर चर्चा में आईं, जब तेलंगाना विधानसभा में एक बीजेपी नेता ने उन्हें 'पाकिस्तान की बहू' करार दिया। एक इंटरव्यू के दौरान सानिया ने कहा कि मैं बहुत उदास थी। मुझे नहीं पता कि यह सब किसी और देश में होता है या नहीं। यह मेरे लिए बहुत आहत करने वाला था कि मुझे अपनी भारतीयता को साबित करना पड़ता है। बार-बार बताना पड़ता है कि मैं भारतीय हूं। यह बिल्कुल गलत है।

saniapic7

पाक नहीं जाने की शर्त पर हुई शादी

सानिया मिर्जा और शोएब मलिक की शादी किसी ड्रामा फिल्म से कम नहीं थी। उनकी शादी में कई अड़चनें आईं। पहले तो सानिया के पिता शादी के लिए तैयार नहीं थे। बाद में वो इस शर्त पर राजी हुए कि सानिया शादी के बाद या तो भारत में रहेंगी या दुबई में, वे पाकिस्तान नहीं जाएंगी। शोएब ने ये शर्त मानी तब दोनों की शादी हुई। इसके बाद हैदराबाद की एक लड़की ने खुद को शोएब की पत्नी करार दिया। काफी हंगामे के बाद ये मामला शांत हुआ। सानिया आज भी छुट्टियों में हैदराबाद अपने पिता के पास आती हैं और दुबई में अपने अपार्टमेंट में रहती हैं।

saniamarriage
First published: November 15, 2016
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर