फॉरेंसिक लैब का दावा, यूपी विधानसभा में मिला पाउडर विस्फोटक नहीं

News18Hindi
Updated: July 18, 2017, 10:21 AM IST
फॉरेंसिक लैब का दावा, यूपी विधानसभा में मिला पाउडर विस्फोटक नहीं
यूपी विधानसाभा में तैनात एटीएस के कमांडों
News18Hindi
Updated: July 18, 2017, 10:21 AM IST
यूपी विधानसभा में मिला संदिग्ध पाउडर विस्फोटक यानी पेंटाएरीथ्रीटोल ट्राइनाइट्रेट (पीईटीएन) नहीं था. सूत्रों के मुताबिक, इस बात का खुलासा आगरा स्थित फॉरेंसिक लैब में हुआ है. प्रदेश की एकमात्र विधि विज्ञान प्रयोगशाला आगरा में है.

आगरा फॉरेंसिक लैब के डिप्टी डायरेक्टर एके मित्तल की अगुवाई में 4 वरिष्ठ वैज्ञानिकों की टीम ने पाउडर की जांच की थी. वहीं पाउडर में किसी भी विस्फोटक के कण नहीं मिले है. यूपी एटीएस के अधिकारियों ने कहा है कि अभी तक आगरा लैब से कोई रिपोर्ट नहीं मिली है.

वहीं आगरा फॉरेंसिक लैब के वैज्ञानिकों का दावा है कि परीक्षण के लिए भेजे गए नमूने में विस्फोटक जैसा कुछ भी नहीं है. यूपी एटीएस ने एक्सप्लोसिव को जांच के लिए आगरा और हैदराबाद भेजे हैं. गौरतलब है कि यूपी विधानसभा में 12 जुलाई को बजट सत्र के दौरान सपा विधायक मनोज पांडेय की कुर्सी के नीचे संदिग्ध पाउडर मिलने के बाद सूबे में हड़कंप मच गया था.

विधानसभा में संदिग्ध पाउडर मिलने की जांच कर रही एटीएस ने सोमवार को सपा विधायक अनिल दोहरे से कई घंटे तक पूछताछ की थी. बताया जाता है कि कई सवालों के वे सही से जवाब नहीं दे पाए थे. वहीं सपा विधायक अनिल दोहरे ने कहा कि एटीएस को मैंने बताया कि उन्हें नहीं पता कि यह सफेद पाउडर कहां से आया था.

सपा के दो विधायकों से हो चुकी हैं पूछताछ

विधानसभा में संदिग्ध पाउडर मिलने की जांच कर रही एटीएस ने सोमवार को सपा विधायक अनिल दोहरे से कई घंटे तक पूछताछ की थी. बताया जाता है कि कई सवालों के वे सही से जवाब नहीं दे पाए थे. वहीं सपा विधायक अनिल दोहरे ने कहा कि एटीएस को मैंने बताया कि उन्हें नहीं पता कि यह सफेद पाउडर कहां से आया था.

इससे पहले बीते शनिवार को एटीएस की टीम रायबरेली के ऊंचाहार से समाजवादी पार्टी के विधायक मनोज पाण्डेय से पूछताछ कर चुकी हैं.
First published: July 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर