शिक्षा की अलख जगा रही है मेरठ की ये मुस्लिम बेटी!

Umesh Srivastava | ETV UP/Uttarakhand

First published: January 11, 2017, 3:52 PM IST | Updated: January 11, 2017, 3:52 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
शिक्षा की अलख जगा रही है मेरठ की ये मुस्लिम बेटी!
मेरठ की बेटी आयशा ने गरीब बच्चों को शिक्षित करने की ठानी है. आयशा गरीब बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं. आयशा न सिर्फ खुद पढ़ रही हैं आगे बढ़ रही हैं, बल्कि गरीब बच्चों को निशुल्क पढ़ाकर समाज के लिए मिसाल भी पेश की है.

कहते हैं कि नामुमकिन को मुमकिन करने के लिए शिक्षा से बेहतर और कोई ज़रिया नहीं. शिक्षा से कोई भी मुकाम हासिल किया जा सकता है. लेकिन हमारे समाज में एक वर्ग ऐसा भी है जिनके बच्चे अशिक्षित हैं. ऐसे गरीब बच्चों की जिन्दगी में मेरठ की एक बेटी ज्ञान का उजियारा फैला रही है.

मेरठ की बेटी आयशा ने गरीब बच्चों को शिक्षित करने की ठानी है. आयशा गरीब बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं. आयशा न सिर्फ खुद पढ़ रही हैं आगे बढ़ रही हैं, बल्कि गरीब बच्चों को निशुल्क पढ़ाकर समाज के लिए मिसाल भी पेश की है.

आयशा झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों मज़दूरों के बच्चों मुफ्त में शिक्षा देती हैं. मेरठ के इस्माइल कॉलेज से बीए कर रही आयशा ने अपने मोहल्ले में ऐसी मुहिम छेड़ दी है कि स्कूलों में भले ही इन बच्चों को दाखिला न मिला हो, लेकिन उन्हें लिखना पढ़ना सिखाया जा रहा है.

आयशा का कहना है कि कुछ बच्चों और लड़कियों ने आज तक स्कूल नहीं देखा है. तो कुछ को फीस नहीं देने के कारण स्कूल से निकाल दिया गया. इन बच्चों को वो मुफ्त में शिक्षा दे रही हैं. इस बिटिया की पहल पर लोगों ने अपने बच्चों को पढ़ने के लिए भेजना शुरु किया और आज आलम ये है कि आयशा के पास  66 बच्चे पढ़ने के लिए आते हैं. आयशा के इस मिशन को बच्चे और बड़े सभी सलाम कर रहे हैं.

आयशा के अलावा ऐसी कई मुस्लिम बेटियां हैं जो अपने मोहल्लों में, गांवों में शिक्षा की अलख जगा रही हैं.

facebook Twitter google skype whatsapp