प्रकृति पूजन की हमारी परंपराओं का है वैज्ञानिक आधार: सीएम

News18India
Updated: July 17, 2017, 9:21 PM IST
प्रकृति पूजन की हमारी परंपराओं का है वैज्ञानिक आधार: सीएम
News18India
Updated: July 17, 2017, 9:21 PM IST
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को जीजीआईसी राजपुर रोड में धाद संस्था द्वारा हरेला पर्व के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रम में वृक्षारोपण किया.
इस मौके पर मुख्यमंत्री ने छात्रों से कहा कि हरेला पर्व पर्यावरण एवं संस्कृति का पर्व है. भारत में प्रकृति पूजा की परम्परा रही हैं. यहां वृक्षों, सांपों, जन्तुओ तथा प्रकृति के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है.
हमारी परम्पराएं वैज्ञानिक आधार रखती है. क्योंकि सभी प्राणी हमारी ईको सिस्टम का हिस्सा है अतः हमारी प्रकृति पूजा की परम्परा पर्यावरण संरक्षण तथा प्रकृति प्रेम का संदेश देती है. हमें अपनी पर्यावरण हितैषी परम्पराओं को बनाए रखना होगा.
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे राज्य में लगभग 12,000 वन पंचायतें है जिनमें महिलाओं की सक्रिय सहभागिता है. राज्य में महिलाएं महिला मंगल दलों, अन्य स्वयं सहायता समूहों तथा स्वयं के प्रयासों द्वारा पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सक्रिय भागीदारी कर रही है. पर्यावरण संरक्षण में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है.

उन्होंने कहा कि छात्रों को टाइम मैनेजमेंट का ध्यान रखना चाहिए और साथ ही राष्ट्रीय तथा अन्र्तराष्ट्रीय घटनाओं से अपडेट भी रहना चाहिए.
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर