वन विभाग की अनुमति के बिना ग्रामीणों ने बनाया रास्ता, 4 के खिलाफ मुकदमा!

Himanshu Badoni | ETV UP/Uttarakhand

First published: January 11, 2017, 12:32 PM IST | Updated: January 11, 2017, 12:32 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp
वन विभाग की अनुमति के बिना ग्रामीणों ने बनाया रास्ता, 4 के खिलाफ मुकदमा!
लैंसडाउन डिवीजन की कोटद्वार रेंज के अंतर्गत ग्रामीणों ने बिना वन विभाग की अनुमति के ही 100 मीटर रास्ता बना डाला.

पौड़ी जिले की लैंसडाउन डिवीजन की कोटद्वार रेंज में ग्रामीणों ने बिना वन विभाग की अनुमति के सड़क बनाने के लिए 100 मीटर रास्ता बना डाला. मुख्यमंत्री की घोषणा के तहत पुलिंडा-तस्याली-स्यालिंगा मोटर मार्ग के प्रथम चरण के लिए 60.80 लाख की धनराशि मंजूद की गई थी. लेकिन जब तक वन विभाग और लोक निर्माण विभाग इस मोटर मार्ग का सर्वे करते उससे पहले ही ग्रामीणों ने रात में जेसीबी लगाकर बिना अनुमति के आरक्षित वन क्षेत्र 100 मीटर सड़क का निर्माण करते हुए दर्जनों हरे पेड़ों को जड़ से उखाड़ दिया. जिसके चलते वन विभाग ने 4 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

लोनिवि दुगड्डा के अधिशासी अभियंता राजेश चन्द्र ने इस मामले में बताया है कि सीएम की 2016 की इस घोषणा के तहत प्रथम चरण के लिए मुआवजे सहित दूसरे कार्यों के लिए करीब 60.80 लाख की धनराशि स्वीकृत की गई है, जिसके लिए वन विभाग के साथ संयुक्त रूप से सर्वे किया जाना है.

उधर दूसरी ओर वन विभाग को जैसे ही ग्रामीणों द्वारा आरक्षित वन क्षेत्र में जेसीबी चलाये जाने की सूचना मिली तो उसने तत्काल मौके पर पुहंच कर पूरे मामले की जानकारी जुटानी शु्रू कर दी. इस घटमाक्रम में वन विभाग ने 4 ग्रामीणों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया है, जबकि जेसीबी के मालिक और उसके चालक के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है.

facebook Twitter google skype whatsapp