मेरा पालतू कुत्ता एक अच्छा जिहादी हो सकता हैः हेडली

वार्ता

Updated: May 25, 2011, 12:51 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

शिकागो। मजहबी जुनून में भारत के खिलाफ जिहाद छेड़ने की मुहिम में शामिल डेविड कोलमैन हेडली उर्फ दाऊद गिलानी अपने दोस्तों से कहता था कि मेरा पालतू कुत्ता भी एक अच्छा जिहादी बन सकता है। वादा माफ सरकारी गवाह के रूप में हेडली इन दिनों शिकागो की जिला अदालत में मुम्बई आतंकवादी हमले की साजिश से जुडे अपने पुराने मित्र तहव्वुर हुसैन राणा और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई, लश्कर-ए-तैयबा के एजेंटों के खिलाफ गवाही दे रहा है।

मुकदमा संख्या 09 क्रिमिनल रिपोर्ट 830, अमेरिका बनाम इलियास कश्मीरी में अब बचाव पक्ष के वकीलों को मौका मिलेगा कि वे इस विवादास्पद सरकारी गवाह से जिरह कर सकें। बचाव पक्ष के वकीलों का दावा है कि वे हेडली के बयानों की धज्जियां उड़ा देंगे।

मेरा पालतू कुत्ता एक अच्छा जिहादी हो सकता हैः हेडली
वादा माफ सरकारी गवाह के रूप में हेडली इन दिनों शिकागो की जिला अदालत में मुम्बई आतंकवादी हमले की साजिश से जुडे अपने पुराने मित्र तहव्वुर हुसैन राणा और पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई, लश्कर-ए-तैयबा के एजेंटों के खिलाफ गवाही दे रहा है।

हेडली ने अपनी गवाही में कहा था कि लश्करे तैयबा के सरगना हाफिज सईद ने उसे समझाया था कि एक सेकंड का जिहाद सैकड़ों वर्षों की इबादत से बेहतर है। दूसरी ओर हेडली अपनी पत्नी से अक्सर मजाक में कहता था कि हमारा कुत्ता भी एक अच्छा जिहादी बन सकता है। उसका यह कथन कट्टरपंथी लोगों के लिए आपत्तिजनक हो सकता है क्योंकि कुत्ते को गंदा जानवर माना जाता है।

बचाव पक्ष के वकील चार्ली स्विफ्ट के अनुसार हेडली अपनी तीसरी पत्नी को बचाने के लिए गढ़ी गई कहानी बयान कर रहा है। स्विफ्ट का दावा है कि हेडली की पत्नी को पता था कि उसका पति आतंकवादी गतिविधियों में शामिल है। बचाव पक्ष के पास इसका लिखित सबूत भी है जबकि राणा को हेडली की गतिविधियों की जानकारी थी इसका कोई साक्ष्य नहीं है।

First published: May 25, 2011
facebook Twitter google skype whatsapp