निजी हथियारों पर रोक के लिए अमेरिका में चली मुहिम

आईएएनएस

Updated: January 10, 2013, 8:31 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

वॉशिंगटन। अंधाधुंध फायरिंग में एक बार जख्मी हो चुकी अमेरिकी कांग्रेस की भूतपूर्व सदस्या ग्रैब्रियल गिफोर्ड्स ने अमेरिका में शस्त्र हिंसा के खिलाफ एक व्यापक मुहिम की शुरुआत की है। गिफोर्ड्स ने एरिजोना के टक्सन में अंधाधुंध फायरिंग की वारदात की दूसरी बरसी पर मंगलवार को मुहिम की शुरुआत की। इस घटना में छह लोगों की मौत हो गई थी और पूर्व सांसद बुरी तरह जख्मी हुई थी।

गिफोर्ड्स और अंतरीक्ष यात्री रह चुके उनके पति मार्क केली ने कहा कि दिलदहला देनी वाली फायरिंग की घटनाओं ने हमारे समुदाय में आतंक का बीज बो दिया है। हजारों अमेरिकी इसके भुक्तभोगी रह चुके हैं। इसके बावजूद कांग्रेस ने इसे रोकने के लिए कोई असाधारण काम नहीं किया।

निजी हथियारों पर रोक के लिए अमेरिका में चली मुहिम
अंधाधुंध फायरिंग में एक बार जख्मी हो चुकी अमेरिकी कांग्रेस की भूतपूर्व सदस्या ग्रैब्रियल गिफोर्ड्स ने अमेरिका में शस्त्र हिंसा के खिलाफ एक व्यापक मुहिम की शुरुआत की है।

पति-पत्नी की टीम ने अपने नए मुहिम को अमेरिकन फॉर रेस्पॉन्सिबल साल्यूशन नाम दिया है। इसका मकसद पैसा जुटाना है ताकि उससे हथियारों के पूरजोर समर्थक नेशनल राइफल एसोसियेशन व अन्य के प्रभाव को संतुलित किया जा सके। गिफोर्ड्स और केली ने दिसंबर में फायरिंग में मारे गए व्यक्तियों के परिवार के सदस्यों के साथ एक भावुक मुलाकात भी की। कानेक्टीकट के सैंडी हुक एलमेंट्री स्कूल में अंधाधुंध फायरिंग में बीस बच्चे और छह लोग मारे गए थे।

उन्होंने कहा कि वे महज यह उम्मीद लगाए बैठे नहीं रह सकते कि एक हादसा अगले हादसे को रोकेगी। दोनों ने निजी हथियार खरीदने वाले किसी भी व्यक्ति की पृष्ठभूमि की व्यापक छानबीन और मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों के प्रभावी इलाज की मांग की।

केली ने बतया कि उन्होंने हाल ही में वालमार्ट से एक बंदूक खरीदी और अपनी पृष्ठभूमि की जानकारी दी। ऐसा करना कोई मुश्किल काम नहीं है। गिफोर्ड्स बताती हैं कि एक पागल द्वारा पिस्टल से छह व्यक्तियों को शूट करने और उन्हें बुरी तरह जख्मी करने की घटना के बाद से अमेरिका 11 अंधाधुंध फायरिंग की घटनाओं का गवाह रहा है।

First published: January 10, 2013
facebook Twitter google skype whatsapp