पहले अश्वेत पोप बन सकते हैं घाना के कार्डिनल टर्कसन

वार्ता
Updated: February 27, 2013, 2:33 AM IST
पहले अश्वेत पोप बन सकते हैं घाना के कार्डिनल टर्कसन
ऑयरलैंड की सट्टा लगाने वाली कंपनी ‘पैडी पावर’ के अनुसार फादर टर्कसन के नाम पर लोग सबसे अधिक पैसा लगा रहे हैं।
वार्ता
Updated: February 27, 2013, 2:33 AM IST
लंदन। घाना के कार्डिनल पीटर टर्कसन पोप बनने की दौड़ में सबसे आगे माने जा रहे है और अगर वह पोप बन जाते है तो यह वेटिकन के इतिहास में पहला मौका होगा जब कोई गैर यूरोपीय व्यक्ति ईसाइयों की इस सर्वोच्च संस्था के सर्वोच्च पायदान पर जगह बनाने में कामयाब हुआ हो।
ऑयरलैंड की सट्टा लगाने वाली कंपनी ‘पैडी पावर’ के अनुसार फादर टर्कसन के नाम पर लोग सबसे अधिक पैसा लगा रहे हैं। अगर वो वाकई में पोप बन जाते हैं तो उनके नाम पर पैसा लगाने वाले हर व्यक्ति को प्रति चार पौंड के मुकाबले सात पौंड का मुनाफा होगा। इतालवी पादरी एंजेलो स्कोला दूसरी पसंद माने जा रहे हैं।
पैडी पावर के एक प्रवक्ता ने बयान जारी करते हुए कहा कि पोप बेनेडिक्ट 16वें की विदाई से चर्च में एक ऐसा निर्वात बन जाएगा जिसे सरलता से भर पाना मुमकिन नहीं होगा। हम कामना करते है कि उनका आगे का जीवन मंगलमय हो। पोप 28 अगस्त को अपना पद छोड़ देंगे।
पोप का चुनाव करने वाले कार्डिनलो का निर्वाचन मंडल मार्च मे वेटिकन के बंद दरवाजो के पीछे ‘पेपल कोन्कलेव’ का आयोजन करेगा। इस दौरान सीलबंद कमरे के पीछे 115 पादरी नए पोप के नाम पर मतदान करेंगे। मतदान में यदि नए पोप के नाम पर सहमति बन जाती है तो कमरे के ऊपर लगी चिमनी से सफेद धुआं निकलेगा जिससे सेट पीटर्स चौक में मौजूद ईसाई मतावलंबियो को पता चल जाएगा कि उनके धर्मगुरु को चुन लिया गया है। मतदान विफल रहने पर चिमनी से काला धुआं निकलेगा।

First published: February 27, 2013
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर