पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपी ईसाई को फांसी

वार्ता
Updated: March 28, 2014, 4:21 AM IST
पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोपी ईसाई को फांसी
पाकिस्तान की एक अदालत ने आज ईसाई धर्म के एक व्यक्ति को मुसलमान धर्म के पैगम्बर मुहम्मद की निंदा करने के आरोप में ईशनिंदा के दोष में मौत की सजा सुनाई।
वार्ता
Updated: March 28, 2014, 4:21 AM IST
लाहौर। पाकिस्तान की एक अदालत ने आज ईसाई धर्म के एक व्यक्ति को ईशनिंदा के दोष में मौत की सजा सुनाई। लाहौर के पूर्वी इलाके में एक साल पहले मुसलमान धर्म के एक अनुयायी के ईसाई व्यक्ति सावन मसीह पर पैगम्बर मुहम्मद की निंदा करने का आरोप लगाया था। इस मामले की सुनवाई करते हुए न्यायाधीश गुलाम मुर्तजा चौधरी ने सावन को मौत की सजा सुनाई है।

सावन के अधिवक्ता नमीम शाकिर ने कहा कि न्यायाधीश ने फैसला सुनाते हुए कहा कि सावन को जुर्माने के साथ फांसी पर जरूर लटकाया जाना चाहिए। हालांकि वह इस निर्णय के खिलाफ अपील की योजना बना रहा है। पाकिस्तान में ईशनिंदा के मामले में कम से कम 16 लोगों को मौत की सजा सुनाई गई है जबकि करीब 20 लोग आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं।

इस्लामाबाद स्थित शोध संस्थान सेंटर फॉर रिर्सच एंड सिक्युरिटी स्टडीज की 2012 में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक साल 1990 के बाद से ईशनिंदा के मामले में अभी तक कम से कम 52 लोगों को गिरफतार किया गया है। ईशनिंदा कानून के तहत सुनवाई के दौरान साक्ष्यों की जरूरत नहीं होती और झूठे आरोप लगाने वालों पर किसी जुर्माने का भी प्रावधान नहीं है।
First published: March 28, 2014
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर