अफगानिस्तान में नागरिकों की मौत का आंकड़ा नई ऊंचाई पर : संयुक्त राष्ट्र

भाषा
Updated: July 17, 2017, 3:59 PM IST
अफगानिस्तान में नागरिकों की मौत का आंकड़ा नई ऊंचाई पर : संयुक्त राष्ट्र
प्रतीकात्मक फोटो
भाषा
Updated: July 17, 2017, 3:59 PM IST
संयुक्त राष्ट्र ने आज कहा कि अफगानिस्तान में इस साल पहले छह महीनों में 1,662 लोगों के मारे जाने के साथ नागरिकों की मौत का आंकड़ा नई ऊंचाई पर पहुंच गया. इसके साथ ही इस अवधि में 3,500 से अधिक लोग घायल हुए.

अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (यूएनएएमए) के अनुसार इनमें से लगभग 20 प्रतिशत लोग राजधानी काबुल में मारे गए. रिपोर्ट में कहा गया कि इनमें से ज्यादातर लोग तालिबान और इस्लामिक स्टेट सहित गैर सरकारी बलों के हमलों में मारे गए.

काबुल में मई के अंत में उस समय 150 से अधिक लोग मारे गए जब सुबह के समय एक ट्रक बम विस्फोट हुआ. इस हमले में सैकड़ों लोग घायल हो गए. यूएनएएमए के इस हमले में मरने वाले असैन्य नागरिकों की संख्या 92 बताई और इसे 2001 के बाद से सबसे भीषण हमला करार दिया गया.

अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत तदामिची यमामोतो ने कहा कि संघर्ष में जनहानि का आंकड़ा काफी अधिक है. उन्होंने एक बयान में कहा कि विस्फोटकों के जरिए अंधाधुंध हमले भयावह हैं, यह जल्द से जल्द रुकने चाहिए.

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार जनवरी 2009 से लेकर अब तक अफगानिस्तान में सशस्त्र संघर्ष में 26,500 से अधिक नागरिक मारे गए हैं और लगभग 49,000 घायल हुए हैं.

ये भी पढ़ें -

 
First published: July 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर