ऑस्ट्रेलिया ने रद्द किया वीज़ा-457, हजारों भारतीय मुश्किल में

News18Hindi
Updated: April 18, 2017, 5:38 PM IST
ऑस्ट्रेलिया ने रद्द किया वीज़ा-457, हजारों भारतीय मुश्किल में
Image Source: PTI
News18Hindi
Updated: April 18, 2017, 5:38 PM IST
कुछ ही दिन पहले भारत दौरे पर आए पीएम मैल्कम टर्नबुल ने मंगलवार को बड़ा कदम उठाते हुए ऑस्ट्रेलिया का एक प्रमुख अस्थायी वीज़ा प्रोग्राम- वीज़ा 457 रद्द कर दिया है.

इस वीजा पर ऑस्ट्रेलिया में 95 हजार से ज्यादा विदेशी कामगार काम कर रहे हैं. आंकड़ों के मुताबिक इनमें सबसे ज्यादा भारतीय हैं और ऑस्ट्रेलियन सरकार के इस कदम के बाद इन सभी का भविष्य खतरे में पड़ गया है. भारतीयों पर भी इसका असर पड़ने की आशंका है.

भारत को गरीब बताने वाला स्नैपचैट बना पाकिस्तान का फेवरेट

बढ़ती बेरोज़गारी के लिए उठाया कदम

ऑस्ट्रेलिया सरकार ने इस फैसले की घोषणा करते हुए बताया है कि देश में बढ़ती बेरोजगारी से निपटने के लिए ये कदम उठाना ज़रूरी हो गया था. ऑस्ट्रेलिया के पीएम टर्नबुल ने कहा, 'हम प्रवासियों का देश हैं, लेकिन यह भी सच है कि ऑस्ट्रेलिया में नौकरियों के लिए ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों को वरीयता मिलनी चाहिए.' इससे पहले ट्रंप ने विदेशियों के लिए यूएस की वीजा नीति में बदलाव किया था.

सिडनी ओपेरा हाउस पर भी फ्रांस की तरह 'ट्रक टेरर अटैक' का खतरा

मैल्कम ने कहा, 'हम अस्थाई तौर पर विदेशी कामगारों को हमारे यहां आने की इजाजत देने वाले 457 वीजा को खत्म कर रहे हैं. हम 457 वीजा को अब उन नौकरियों तक पहुंचने का जरिया नहीं बनने देंगे, जो ऑस्ट्रेलिया के लोगों को मिलनी चाहिए.' पीएम ने कहा कि स्किल्ड जॉब्स के क्षेत्र में वह 'ऑस्ट्रेलियन फर्स्ट' की नई नीति अपनाने जा रहे हैं.

नॉर्थ कोरिया ने यूएस को न्यूक्लियर हमले की धमकी दी

क्या है ये वीज़ा
वीजा 457 प्रोग्राम के तहत कंपनियों को स्किल्ड जॉब्स में विदेशी कामगारों चार साल तक नौकरी देने की इजाज़त मिलती है. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑस्ट्रेलिया में इस तरह के कामगारों की कमी मानी जाती है.

म्यांमार में बड़ा हादसा, जल महोत्सव के दौरान 285 की मौत

वीजा को लेकर क्या है ऑस्ट्रेलिया की रिपोर्ट 

ऑस्ट्रेलियन सरकार की ही एक रिपोर्ट के मुताबिक इस वीजा कार्यक्रम के तहत 30 सितंबर 2016 तक ऑस्ट्रेलिया में 95,757 वर्कर काम कर रहे थे जिनमें से सबसे ज्यादा भारतीय हैं. भारत के बाद इस वीज़ा के तहत ब्रिटेन और चीन के लोग काम करते हैं. ख़बरों के मुताबिक इसकी जगह पर नई बंदिशों के साथ नया वीजा कार्यक्रम लाया जाएगा. बता दें कि टर्नबुल ने यह घोषणा हाल ही में भारत यात्रा से लौटने के बाद की है.
First published: April 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर