नौकरी से निकाले जाने से दो दिन पहले भरारा ने किया था ट्रम्प का फोन उठाने से इनकार

News18Hindi
Updated: March 13, 2017, 12:16 PM IST
नौकरी से निकाले जाने से दो दिन पहले भरारा ने किया था ट्रम्प का फोन उठाने से इनकार
भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के लिए पहचाने जाने वाले, भारत में जन्मे शीर्ष अमेरिकी अटॉर्नी प्रीत भरारा को ट्रंप प्रशासन ने निकालने से ठीक दो दिन पहले फ़ोन किया था जिसका जवाब उन्होंने नहीं दिया.
News18Hindi
Updated: March 13, 2017, 12:16 PM IST
भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के लिए पहचाने जाने वाले, भारत में जन्मे शीर्ष अमेरिकी अटॉर्नी प्रीत भरारा को ट्रम्प प्रशासन ने निकालने से ठीक दो दिन पहले फोन किया था, जिसका जवाब उन्होंने नहीं दिया.

व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने कहा की राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प भरारा को अपने काम के लिए बधाई देना चाहते थे लेकिन ने फोन का जवाब देने से मना कर दिया।

भरारा ने बराक ओबामा प्रशासन के दौरान नियुक्त 46 वकीलों को तुरंत इस्तीफा देने के ट्रम्प प्रशासन के आदेश को मानने से इंकार कर दिया था, जिसके बाद उन्हें अमेरिका में न्यूयार्क के अटॉर्नी के पद से हटा दिया गया.



प्रीत भरारा ने ट्वीट कर कहा था , "मैंने इस्तीफा नहीं दिया... कुछ देर पहले मुझे निकाल दिया गया... सदर्न डिस्ट्रिक्ट ऑफ न्यूयॉर्क (एसडीएनवाई) में अमेरिकी अटॉर्नी रहना मेरे जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि और सम्मान रहेगा .."

48-वर्षीय भरारा अमेरिका के सबसे ज्यादा हाई-प्रोफाइल अटॉर्नी  हैं. उन्हें भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई के लिए जाना जाता है. एक दिन पहले ही कार्यवाहक डिप्टी अटॉर्नी जनरल ने उन्हें तुरंत इस्तीफा देने के लिए कहा था.

रिपब्लिकन पार्टी की ओर से ट्रम्प के राष्ट्रपति पद का चुनाव जीतने के कुछ ही समय बाद भरारा की उनसे ट्रम्प टॉवर में मुलाकात हुई थी. ट्रम्प से मिलने के बाद भरारा ने संवाददाताओं को बताया था कि ट्रम्प ने मुलाकात में उनसे पद पर बने रहने को कहा था और वह इसके लिए खुशी से सहमत हो गए थे.

इस बीच, सीनेट में अल्पसंख्यकों के नेता चार्ल्स शूमेर ने भरारा को हटाए जाने की आलोचना की और उन्हें सबसे बेहतरीन अमेरिकी अटॉर्नी बताया है. साउथ एशियन बार एसोसिएशन ने भी भरारा को हटाए जाने की आलोचना की है.

सीनेटर पैट्रिक लेही ने न्याय विभाग की स्वतंत्रता को लेकर आशंका जाहिर की है. वह सीनेट की न्यायिक समिति के रैंकिंग सदस्य भी हैं.
First published: March 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर