अमेरिका ने दक्षिण कोरिया में तैनात किया एंटी मिसाइल सिस्टम थाड, भड़का चीन

News18India
Updated: March 8, 2017, 3:24 AM IST
अमेरिका ने दक्षिण कोरिया में तैनात किया एंटी मिसाइल सिस्टम थाड, भड़का चीन
Image Source: News18 India
News18India
Updated: March 8, 2017, 3:24 AM IST
उत्तर कोरिया की आक्रामकता को बढ़ता देख अमेरिका के अपने सहयोगी देश दक्षिण कोरिया को एंटी मिसाइल सिस्टम थाड से लैस कर दिया है. ख़बरों के मुताबिक बीते दिनों अमेरिका वायुसेना ने दक्षिण कोरिया के ओसान एयर बेस पर थाड को तैनात किया है. बता दें कि थाड दुश्मन मिसाइल को हवा में ही मार गिराने में सक्षम है.

उत्तर कोरिया की बढ़ती आक्रामकता के बाद अमेरिका ने बीते दिनों रात के अंधेरे में थाड एंटी मिसाइल सिस्टम के लॉन्चर से लैस भारी-भरकम ट्रकों को नीचे उतारा गया था. इन्हीं ट्रकों के जरिए ही थाड प्रणाली का इस्तेमाल किया जाता है. तस्वीरों में साफ़ देखा जा सकता था कि इन ट्रकों के पीछे बड़े-बड़े पाइप जैसे लॉन्चर लगे थे जो कि थाड के लिए ही इस्तेमाल में लाए जाते हैं. गौरतलब है कि दक्षिण कोरिया को इनकी जरूरत इसलिए पड़ी है क्योंकि तानाशाह किम जोंग उन की हुकूमत वाले उत्तर कोरिया ने इसी हफ्ते चार बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है. इनमें से तीन मिसाइल जापान की समुद्री सीमा के अंदर गिरी थीं.

कैसे करती है काम
बता दें कि इन लॉन्चरों से ही मिसाइलें छूटती हैं जो दुश्मन की मिसाइलें से टकरा कर उन्हें हवा में तबाह कर देतीं हैं. ये प्रणाली खोजी सैटेलाइट के साथ मिलकर दुश्मन मिसाइलों पर नज़र रखती है और हमले की स्थिति में दुश्मन मिसाइलों को हवा में ही तबाह कर देती हैं.

थाड का हो रहा है विरोध
दक्षिण कोरिया में राष्ट्रपति पद के प्रत्याशी ली जे म्यूंग समेत बहुत से लोग इसका विरोध कर रहे हैं. इन लोगों का कहना है कि उत्तर कोरिया की मिसाइलें काफी उन्नत हैं और थाड प्रणाली उन्हें रोक पाने में सक्षम नहीं है. बता दें कि उत्तर कोरिया की रोडोंग मिसाइल आवाज से 7 गुना रफ्तार से हमला करने में सक्षम हैं.

उधर दक्षिण कोरिया में थाड की तैनाती का विरोध चीन भी कर रहा है. चीन अपने बगल में अमेरिका के खतरनाक हथियार की तैनाती को इलाके में तनाव बढ़ाने वाला मानता है. चीन का कहना है कि इस कदम से क्षेत्र में संतुलन बिगड़ जाएगा. गौरतलब है कि उत्तर कोरिया के मिसाइल मसले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की आपात बैठक भी बुलाई है.
First published: March 7, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर