मुआवजे और घर के लालच में एक चीनी गांव के 160 जोड़े ले रहे तलाक

News18India

Updated: March 3, 2017, 3:00 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

बीजिंग. सामूहिक विवाह अब आम हो चला है, लेकिन क्या आपने सामूहिक तलाक के बारे में सुना है? कुछ ऐसा ही हो रहा है पूर्वी चीन के एक गांव में। ऐसा नहीं है कि ये कपल साथ नहीं रहना चाहते, बल्कि तलाक लेने की वजह कुछ और ही है। ये मामला जियांग्सू प्रॉविन्स के जियांगबे गांव का है। यहां रहने वाले 160 से ज्यादा कपल्स ने तलाक की अर्जी दी है।

क्यों लेना चाहते हैं तलाक

मुआवजे और घर के लालच में एक चीनी गांव के 160 जोड़े ले रहे तलाक
चीन के एक गांव में 160 से ज्यादा कपल्स ने तलाक की अर्जी दी है। सरकार से मुआवजा लेने के लिए इन्होंने ये फैसला लिया है।

दरअसल, गांव में एक हाई-टेक जोन बनाए जाने की घोषणा हुई है, जिसके लिए यहां के घर गिराए जाएंगे और सभी ग्रामीणों को मुआवजा दिया जाएगा।

नियमों के अनुसार, हर कपल को 220 स्क्वेयर मीटर का घर और रीलोकेशन मुआवजा दिया जाएगा। लेकिन, दूसरा नियम यह भी है कि तलाकशुदा कपल्स को घर तो दिया ही जाएगा इसके अलावा दूसरे पार्टनर को 70 स्क्वेयर मीटर का घर और 131,000 युआन (करीब 19,036 डॉलर) मुआवजा भी दिया जाएगा। इसी वजह से गांव के 160 से ज्यादा कपल्स ने तलाक के पेपर्स फाइल कर दिए हैं।

तलाक लेने की लाइन में जियांगबे के उम्रदराज कपल्स के अलावा कई नए शादीशुदा कपल्स भी हैं। हालांकि, इनका कहना है कि इससे उनके रिश्तों में खटास नहीं आएगी। लोकल न्यूज पेपर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, तलाक ले चुके कई कपल्स साथ ही रह रहे हैं।

दूसरे पार्टनर को घर और मुआवजा मिलने में हो सकती है दिक्कत

हाउसिंग डेमोलिशन और रीलोकेशन रेगुलेशन्स के अनुसार, एक्स्ट्रा घर और मुआवजा सिर्फ उन्हीं कपल्स को दिया जाएगा, जिनके तलाक को 5 साल हो चुके हों। हालांकि, एक लॉ फर्म ने ग्रामीणों को बताया है कि अगर उन्होंने कानूनी तरीके से तलाक लिया है तो उन्हें चिंता करने की जरूररत नहीं है। फिर चाहे तलाक को कितने ही साल हुए हों। यह लॉ फर्म कपल्स का तलाक करवाने के लिए 15,000 युआन (2,180 डॉलर) फीस वसूल रही है।

First published: March 3, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp