मालिक के लिए फरिश्ता बनकर आया कुत्ता, इस तरकीब से भीषण ठंड में बचाई जान

भाषा
Updated: January 15, 2017, 6:51 PM IST
मालिक के लिए फरिश्ता बनकर आया कुत्ता, इस तरकीब से भीषण ठंड में बचाई जान
File Photo: Getty Images
भाषा
Updated: January 15, 2017, 6:51 PM IST

शिकागो। अमेरिका में एक कुत्ते ने 24 घंटे तक भीषण ठंड में अपने 64 वर्षीय मालिक के ऊपर लेटे रहकर उन्हें ठंड से मरने से बचा लिया। कुत्ते का मालिक गिरने और गर्दन की हड्डी टूटने के कारण एकदम अपंग हालत में पड़ा था। बॉब पेतोस्की नववर्ष की पूर्व संध्या पर जलाने के लिए लकड़ियां एकत्र कर रहे थे और उस समय मिशिगन में अपने फार्महाउस में उस समय अकेले थे।

पांच वर्षीय गोल्डन र्रिटीवर केलसी फीस्टा बाउल उत्सव के दौरान उस समय बॉब के साथ थी। उसी समय बॉब ने फायरप्लेस के लिए लकड़ियां लेने के लिए घर से बाहर जाने का फैसला किया। वह अपनी पेंट, स्लीपर और केवल कमीज पहने बाहर चले गए। लेकिन वह मुश्किल से 15 फुट ही चले होंगे कि अचानक फिसल गए और गिर पड़े। इसके बाद वह वहां से उठ नहीं पाए। उस समय हाड़ कंपा देने वाली ठंड पड़ रही थी।

पेतोस्की न्यूज ने बॉब के हवाले से बताया कि मैं मदद के लिए चिल्ला रहा था लेकिन मेरा सबसे करीबी पड़ोसी भी करीब एक चौथाई मील की दूरी पर था और रात के साढ़े दस बजे हुए थे। लेकिन उस समय मेरी केल्सी वहां आ गयी। उन्होंने बताया कि सुबह होने तक मेरी आवाज जा चुकी थी और मैं मदद के लिए चिल्ला भी नहीं सकता था लेकिन केल्सी ने भौंकना बंद नहीं किया। अगले 20 घंटे बॉब बर्फ में पड़े रहे और तापमान काफी नीचे चला गया। बॉब ने बताया कि केल्सी उनके ऊपर लेटी रही और उनके शरीर को गर्म रखने में मदद की। वह उन्हें जगाए रखने के लिए उनके चेहरे और हाथों को चाटती रही।

उन्होंने बताया कि केल्सी मदद के लिए भौंकती रही लेकिन मेरे पास से नहीं हटी। करीब 19 घंटे बर्फ में पड़े रहने के बाद बॉब की चेतना जाती रही लेकिन केल्सी ने तब तक भौंकना जारी रखा जब तक कि उसके पड़ोसी रिक वहां नहीं पहुंच गए। बॉब ने बताया कि रिक ने नए साल में शाम साढ़े छह बजे उन्हें वहां पड़े हुए पाया। पड़ोसी से फोन पर पिता की हालत पता चलने पर उनकी बेटी जेनी ग्रोस प्वाइंट से उनके घर पहुंची। मैकलारेन नार्दर्न मिशिगन अस्पताल में न्यूरो सर्जन चेम कोलेन ने उनके कई ऑपरेशन किए और बताया कि उनके कुत्ते ने उनकी जान बचाई।

First published: January 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर