डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की शपथ लेते ही कहा, धरती से इस्लामिक आतंकवाद मिटा देंगे

भाषा

Updated: January 20, 2017, 11:59 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

70 साल के डोनाल्ड जॉन ट्रंप ने अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली है. डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की शपथ ली. ट्रंप को तोपों की सलामी दे गई. उनसे पहले माइक पेंस ने अमेरिका के उप राष्ट्रपति पद की शपथ ली. राष्ट्रपति पद की शपथ लेने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप को बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा कि भारत-अमेरिका संबंधों को और मजबूत करने और हमारे सहयोग की पूर्ण क्षमता का दोहन करने के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ काम करने को लेकर मैं उत्साहित हूं।

ट्रंप ने अब्राहम लिंकन की बाइबल पर अपन बायां हाथ रखकर पद की शपथ ली और इसके साथ ही वह उस कुर्सी पर आसीन हो गए जो दुनिया में सबसे शक्तिशाली कही जाती है। प्रधान न्यायाधीश जॉन रॉबर्ट्स ने उनको शपथ दिलाई।

डोनाल्ड ट्रंप ने राष्ट्रपति पद की शपथ लेते ही कहा, धरती से इस्लामिक आतंकवाद मिटा देंगे
70 साल के डोनाल्ड जॉन ट्रंप ने अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति पद की शपथ ले ली है. ट्रंप को तोपों की सलामी दे गई. शपथ लेने के बाद देशवासियों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि आज से जनता शासक है. ये मेरी नहीं जनता की सरकार है.

शपथ लेने के बाद देशवासियों को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि आज से जनता शासक है. ये मेरी नहीं जनता की सरकार है. ट्रम्प ने कहा कि 20 जनवरी, 2017 को आम लोगों के इस देश का शासक बनने के दिन के तौर पर याद किया जाएगा. हम मिलकर चुनौतियों का सामना करेंगे. अब गरीबी और बेरोजगारी मिटाना है. अमेरिका के लोगों को अच्छे स्कूल, सुविधाएं चाहिए. अमेरिका में उद्योग धंधों का बुरा हाल है. ट्रंप ने अमेरिकी लोगों से कहा कि मैं आपकी नौकरियों को वापस लाऊंगा.

ट्रंप ने कहा कि हमने दूसरों की रखवाली की पर अपनी नहीं की. अब मैं आपको कभी मायूस नहीं करूंगा. देश में अभी से बदलाव शुरू होंगे. अब पूरी दुनिया में कोई भी अमेरिका की अनदेखी नहीं कर सकेगा. डोनाल्ड ने पूरी दुनिया के लोगों को शुक्रिया भी कहा. ट्रंप ने कहा कि धरती से अब कट्टर इस्लामिक आतंकवाद को मिटा देंगे. उन्होंने कहा कि अब बात करने का समय खत्म हो गया है. अब एक्शन का समय है.

ट्रंप के शासनकाल में नीतियों में व्यापक बदलाव की उम्मीद की जा रही है. ट्रंप ने नेशनल मॉल में सर्द मौसम के बीच तकरीबन आठ लाख लोगों के समक्ष शपथ ली. राष्ट्रपति चुनाव में ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन को पराजित किया था.

उन्होंने अब्राहम लिंकन की बाइबल पर हाथ रखकर पद की शपथ ली और इसके साथ ही वह उस कुर्सी पर आसीन हो गए जो दुनिया में सबसे शक्तिशाली कही जाती है. माइक पेंस ने उप राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली. उन्होंने ट्रंप से पहले शपथ ली. ओबामा और उनकी पत्नी मिशेल ने व्हाइट हाउस में ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का अभिवादन किया.

इससे पहले भव्य समारोह में ट्रंप की ताजपोशी की गई. समारोह स्थल पर तकरीबन 10 लाख लोग मौजूद हैं. कार्यक्रम में डोनाल्ड ट्रंप अपने पूरे परिवार के साथ पहुंचे.  शपथ ग्रहण समारोह में बराक ओबामा के अलावा अमेरिका की बड़ी हस्तियां भी मौजूद हैं. इनमें पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन और जॉर्ज डब्ल्यू बुश भी शामिल हैं. अमेरिकी सड़कों पर लोगों का हुजूम ट्रंप के समर्थम में उमड़ पड़ा है.

45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने से पहले ट्रंप प्रार्थना के लिए सेंट जॉन्स एपिसकोपल चर्च पहुंचे. ट्रंप के साथ उनके परिवार के सदस्य मौजूद थे. गार्जियन की रपट के अनुसार, ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का चर्च के द्वारा पर पादरी ने स्वागत किया. Michael Pence sworn in as the vice president of the United States #DonaldTrumpInauguration pic.twitter.com/Abmkze3qPw

इससे पहले निवर्तमान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और प्रथम महिला मिशेल ओबामा ने अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के शपथग्रहण के कुछ ही घंटे पहले व्हाइट हाउस में डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का आज स्वागत किया.

ट्रंप की कारों का काफिला व्हाइट हाउस पहुंचा जहां ओबामा दंपति उनके स्वागत के लिए इंतजार कर रहे थे. जैसे ही ट्रंप की कार ड्राइवे पर रुकी, उन्होंने ओबामा का इशारे से अभिवादन किया. ओबामा दंपति पोर्श की सीढ़ियों के उपर इंतजार कर रहे थे.

जैसे ही ट्रंप कार से उतरे, ओबामा ने उनसे मुखातिब हो कर कहा कि नवनिर्वाचित राष्ट्रपति,  ओबामा दंपति ने ट्रंप दंपति का गर्मजोशी से स्वागत किया. ओबामा ने उनसे पूछा, ‘कैसे हैं आप? कैसा रहा चर्च?’ वह चर्च की प्रार्थना का जिक्र कर रहे थे जिसमें सुबह ट्रंप दंपति शामिल हुए. Michelle Obama and Jill Biden at Capitol Hill for #DonaldTrumpInauguration pic.twitter.com/VVBaYkNRHl — ANI (@ANI_news) January 20, 2017

राष्ट्रपति के 20 जनवरी को शपथ लेने की अमेरिका में दो सौ साल से भी ज्यादा पुरानी परंपरा है. ट्रंप के शपथ समारोह का बजट करीब 1263 करोड़ रुपये रखा गया है, जो अब तक का सबसे महंगा बजट है। साल 2009 में बराक ओबामा के शपथ समारोह का बजट 783 करोड़ रुपये था। शपथ ग्रहण समारोह की थीम 'मेक अमेरिका ग्रेट अगेन' रखी गई है. अमेरिका के मुख्य न्यायाधीश ट्रंप को शपथ दिलाएंगे, ट्रंप दो बाइबिल की शपथ लेंगे. इनमें से एक बाइबिल वह है जिससे अब्राहम लिंकन ने शपथ ली थी, दूसरी वह जो ट्रंप को बचपन में उनकी मां से मिली थी.

इससे पहले गुरुवार शाम को ट्रंप ने अमेरिकियों से कड़ी मेहनत करने और चीजों को दुरस्त करने का वादा किया और देश को एकजुट करने का संकल्प भी लिया. लिंकन मेमोरियल में आयोजित ‘मेक अमेरिका ग्रेट अगेन’ रैली और कन्सर्ट में इकट्ठे हुए हजारों लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा कि हम अपने देश को एकजुट करेंगे और अमेरिका को फिर से महान बनाएंगे. हम हमारे लोगों, देशभर में हर किसी के लिए अमेरिका को महान बनाएंगे.

इस दौरान ट्रंप की पत्नी मेलानिया ट्रंप, बेटी इवांका और दामाद जादेर कुशनेर और बेटे मौजूद थे. ट्रंप ने युवा सैन्य कर्मियों, पूर्व सैनिकों और आम लोगों की भीड़ को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी मुहिम रोजगार को वापस लाने और सेना और देश की सीमाओं को मजबूत करने का वादा करती है. ट्रंप ने कहा, ‘‘मैं आपसे वादा करता हूं कि मैं बहुत मेहनत करूंगा, हम चीजों को दुरस्त करेंगे, हम हमारी नौकरियां वापस लेकर आएंगे. हम अन्य देशों को अब हमारी नौकरियां नहीं छीनने देंगे.

प्रार्थना सभा में शामिल होगा हिंदू पुजारी

ट्रंप की राष्ट्रीय प्रार्थना सभा में प्रार्थना करने वाले कई धार्मिक नेताओं के बीच एक हिंदू पुजारी भी होगा। ट्रंप के अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ लिये जाने के एक दिन बाद शनिवार को प्रार्थना सभा का आयोजन होगा। प्रेजिडेंशियल इनॉगरेशन कमेटी ने बताया कि मैरिलैंड के लनहम में श्री शिव विष्णु नाम के मशहूर मंदिर से नारायणचार्य एल दिगालाकोटा शनिवार को वॉशिंगटन नेशनल कैथ्रेडल में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय प्रार्थना सभा में प्रार्थना करेंगे। शायद ऐसा पहली बार है जब राष्ट्रीय प्रार्थना सभा में किसी हिंदू पुजारी को बुलाया गया है।

First published: January 20, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp