‘एक चीन’ नीति पर सख्त रुख दिखाने वाले अमेरिका ने लिया यू-टर्न

भाषा
Updated: February 10, 2017, 5:44 PM IST
‘एक चीन’ नीति पर सख्त रुख दिखाने वाले अमेरिका ने लिया यू-टर्न
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ बातचीत के दौरान यू-टर्न लेते हुए ताइवान पर दशकों पुरानी ‘एक चीन’ नीति का सम्मान करने पर सहमति जताई है
भाषा
Updated: February 10, 2017, 5:44 PM IST
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ बातचीत के दौरान यू-टर्न लेते हुए ताइवान पर दशकों पुरानी ‘एक चीन’ नीति का सम्मान करने पर सहमति जताई है. संवेदनशील मुद्दे पर ट्रंप के सख्त रुख से चीन नाराज था.

व्हाइट हाउस ने कहा कि दोनों नेताओं ने विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की और राष्ट्रपति ट्रंप चीनी राष्ट्रपति शी के अनुरोध पर ‘एक चीन’ नीति का सम्मान करने पर राजी हो गए. इससे संकेत मिलता है कि दो प्रमुख ताकतों के बीच रिश्ते सहज हो गए हैं.

चीन की सरकारी शिन्हुआ एजेंसी ने खबर दी है कि फोन पर की गई बातचीत के दौरान ट्रंप और शी व्यापार, निवेश और अंतरराष्ट्रीय मामलों में सहयोग करने को राजी हुए हैं. इसने ट्रंप के हवाले से कहा है कि ‘एक चीन’ नीति का पालन करने की अमेरिकी सरकार की उच्च महत्वता को वह पूरी तरह से समझते हैं.

खबर में कहा गया है कि ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी सरकार ‘एक चीन’ नीति का समर्थन करती है. चीन ताइवान को ऐसा प्रांत मानता है जो उससे टूट गया है और जोर देता है कि उसके साथ द्विपक्षीय संबंध रखने वाले सभी देशों को ‘एक चीन’ नीति को मानना चाहिए.

शी ने कहा कि वह ट्रंप की ओर से इस बात पर जोर देने की सराहना करते हैं कि अमेरिकी सरकार एक चीन नीति का समर्थन करती है.

व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिका और चीन के प्रतिनिधि आपसी हित से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बातचीत और चर्चा करेंगे. व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप और राष्ट्रपति शी के बीच फोन पर हुई बातचीत बेहद सौहार्दपूर्ण थी और दोनों नेताओं ने एक-दूसरे के देश के लोगों को शुभकामनाएं दीं. व्हाइट हाउस के अनुसार, दोनों ने एक-दूसरे को अपने- अपने देश आने का न्योता भी दिया.

दोनों नेताओं के बीच चली लंबी बातचीत के बारे में व्हाइट हाउस ने कहा कि ट्रंप और शी बेहद सफल नतीजों वाली आगामी बातचीत का इंतजार कर रहे हैं. ट्रंप ने अपने निर्वाचन के बाद कहा था कि ताइवान पर ‘एक चीन’ की नीति पर बात हो सकती है और वह इसके प्रति पूर्णत: प्रतिबद्ध नहीं हैं. जिसपर चीन ने पलटवार करते हुए कहा था कि ताइवान को चीनी भूभाग का हिस्सा बताने वाली ‘एक चीन’ की नीति पर ‘बातचीत नहीं की जा सकती.

बता दें कि शी ने राष्ट्रपति ट्रंप के शपथग्रहण के मौके पर उन्हें बधाई संदेश भेजा था. ट्रंप ने शी और चीन की जनता को लैंटर्न फेस्टिवल की मुबारकबाद देने के लिए पत्र भेजा था.
First published: February 10, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर