एच1बी वीजा पर ट्रंप के नए आदेश से भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स मुश्किल में

भाषा

Updated: January 31, 2017, 1:12 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नए कदम से भारतीय आईटी पेशेवरों के बीच खलबली मच सकती है. ट्रंप के नए कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर करने की संभावना है जिसके चलते एच1बी और एल1 वीजा पर शिकंजा कस सकता है. यह वीजा भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी पेशेवरों के बीच लोकप्रिय है क्योंकि वे अल्पकालिक नौकरी के लिए ऐसे वीजा पर अमेरिका जाते हैं.

इस आदेश का लक्ष्य रोजगार वीजा के नियमों को कड़ा बनाना है और यह अमेरिकी नई सरकार के आव्रजन व्यवस्था में सुधार की व्यापक योजना का हिस्सा है. यह जानकारी व्हाइट हाउस के एक शीर्ष अधिकारी ने दी है.

एच1बी वीजा पर ट्रंप के नए आदेश से भारतीय आईटी प्रोफेशनल्स मुश्किल में
Photo - getty images

माना जा रहा है कि ट्रंप सरकार के इस कदम से न केवल एच1बी और एल1 वीजा पर शिकंजा कसेगा बल्कि इससे इंस्पेक्टर राज को बढ़ावा मिलेगा. इससे संबंधित राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेश के मसौदे के अनुसार नई व्यवस्था में एच1बी वीजा पर आने वाले व्यक्तियों के जीवनसाथी केलिए अमेरिका में काम करने की अनुमति भी खत्म हो जाएगी. जीवनसाथी को काम करने का अधिकार देने वाले वीजा की शुरूआत बराक ओबामा की सरकार ने हाल ही में ही की थी.

राष्ट्रपति के आदेश का मसौदा कल लीक हो गया था और कुछ समाचार पत्रों ने इसे प्रकाशित कर दिया था.

व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव सीन स्पाइसर ने प्रेस कांफ्रेंस  में कहा कि मेरे हिसाब से जहां तक एच1बी और बाकी वीजा की बात है यह व्यापक आव्रजन सुधारों का हिस्सा है. राष्ट्रपति अपने कार्यकारी आदेशों के माध्यम और कांग्रेस के साथ काम करते हुए इनके बारे में बात करना जारी रखेंगे.

स्पाइसर ने कहा कि आप आव्रजन को लेकर उठाए गए कई कदम पहले ही देख चुके हैं और मेरा मानना है जहां तक जीवनसाथी को काम करने के अधिकार वाले वीजा या अन्य प्रकार के वीजा की बात है सभी तरह के कार्यक्रमों पर संपूर्ण पुनर्विचार करने की जरूरत है. आपको कार्यकारी गतिविधियों और अन्य समग्र कदमों के माध्यम से आव्रजन और संपूर्ण वीजा कार्यक्रमों से जुड़े मसलों का समाधान दिखाई देगा.

 

 

First published: January 31, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp