वाघा बॉर्डर पर मिले बिछड़े मां-बेटा, पाकिस्तान ने भारत को कहा- शुक्रिया

भाषा

Updated: February 5, 2017, 11:35 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

भारतीय अधिकारियों ने झूठ बोल कर भारत लाए गए पांच साल के पाकिस्तानी बच्चे को वाघा सीमा पर उसकी मां को सौंप दिया है. पांच साल के इफ्तिखार अहमद को वाघा पर पाकिस्तान रेंजर्स को सौंपा गया, जहां उसकी मां रोहिना कियानी कई घंटों से उसका इंतजार कर रही थी.

रोहिना ने वाघा में पत्रकारों से कहा कि अपने लाल को वापस पा कर मैं बहुत खूश हूं. मेरे बच्चे के वापस लौटने में मदद के लिए मैं पाकिस्तान सरकार की एहसानमंद हूं. उन्होंने कहा कि मैं अपने बच्चे की वापसी को ले कर उम्मीदें खो बैठी थी. यह मेरे लिए किसी करिश्मे से कम नहीं है.

वाघा बॉर्डर पर मिले बिछड़े मां-बेटा, पाकिस्तान ने भारत को कहा- शुक्रिया
PIC : ANI

उल्लेखनीय है कि पिछले साल मार्च में बच्चे का पिता उसे भारत ले गया था. उसका पिता जम्मू का है. रोहिना का आरोप है कि उसके पूर्व पति ने उससे झूठ बोला था कि वह उसे शादी में ले जा रहा है. वह उसे पहले दुबई ले गया और उसके बाद कश्मीर ले गया.

सीमा पर तनाव के चलते मां और बेटे के मिलन में आठ माह लग गए. पाकिस्तान हाई कमीशन के ऑफिशियल्स शनिवार शाम इफ्तिखार को लेकर वाघा बॉर्डर पहुंचे, जहां उसे उसकी मां के हवाले कर दिया गया. पाकिस्तान ने इस मामले में मदद के लिए भारत को शुक्रिया कहा है. भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित ने ट्वीट में लिखा, "हम इस मानवीय मामले में भारतीय अधिकारियों की मदद के लिए उनके शुक्रगुजार हैं."

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इफ्तिखार को उसके पिता मार्च 2016 में भारत ले आए थे. इस पर इफ्तिखार की मां ने उसकी कस्टडी को लेकर भारत की अदालत में अर्जी दाखिल की थी. इस मामले में फैसला तो पिछले ही साल मई में ही आ गया था, लेकिन सीमा पर तनाव के चलते बच्चे को उसकी मां को नहीं सौंपा जा सका था.

First published: February 5, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp