हाफिज सईद के समर्थकों ने निकालीं पाक रक्षा मंत्री के खिलाफ रैलियां, इस्तीफे की मांग

भाषा
Updated: February 22, 2017, 7:57 AM IST
हाफिज सईद के समर्थकों ने निकालीं पाक रक्षा मंत्री के खिलाफ रैलियां, इस्तीफे की मांग
जमात उद दावा के समर्थकों ने प्रतिबंधित समूह के प्रमुख हाफिज सईद के खिलाफ बयान देने पर रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ के विरोध में पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में रैलियां निकालीं और उनके इस्तीफे की मांग की है.
भाषा
Updated: February 22, 2017, 7:57 AM IST
जमात उद दावा के समर्थकों ने प्रतिबंधित समूह के प्रमुख हाफिज सईद के खिलाफ बयान देने पर रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ के विरोध में पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में रैलियां निकालीं और उनके इस्तीफे की मांग की है.

सबसे बड़ा प्रदर्शन चौबरही लाहौर स्थित जमात उद दावा के मुख्यालय में किया गया जहां समूह और फलाह-ए-इंसानियत के अनेक कार्यकर्ताओं ने हिस्सा लिया. समर्थकों ने हाथ में कुछ बैनर और तख्तियां ले रखी थीं जिनमे लिखा था ‘हाफिज सईद पाकिस्तान का रक्षक मियां मोदी दोस्ती मंजूर नहीं’.

लाहौर में प्रदर्शन को संबोधित करते हुए समूह के नेता हाफिज अब्दुल रहमान मक्की ने सईद को रिहा ना करने पर इस्लामाबाद की तरफ एक लंबा मार्च निकालने की धमकी दी है. बता दें कि हाफिज सईद को लाहौर में 30 जनवरी को आतंकवाद रोधी कानून (एटीए) की चौथी अनुसूची के तहत घर में नजरबंद कर दिया गया था. इसके चलते उसकी पार्टी और सहयोगियों की ओर से काफी हंगामा किया गया था.

हाफिज सईद को लेकर रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा था कि सईद को इस सूची में रखे जाने का अर्थ है कि वह किसी न किसी तरह से आतंकवाद से जुड़ा है. इस महीने की शुरुआत में सईद को ‘एग्जिट कंट्रोल लिस्ट’ (निकास नियंत्रण सूची) में डाला गया था, जो उसे देश छोड़कर जाने से रोकती है.

वहीं पाकिस्तान का कहना है कि आतंकवाद-विरोधी कानून के तहत सूचीबद्ध किया गया जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद देश के लिए एक गंभीर खतरा साबित हो सकता है और इसलिए देश के हित को ध्यान में रखते हुए उसे नजरबंद किया गया है.
First published: February 22, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर