भारत में हैं 101 अरबपति, मुकेश अंबानी सबसे अमीर: फोर्ब्स

भाषा

Updated: March 21, 2017, 3:37 PM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

अरबपतियों की संख्या के मामले में भारत दुनिया में चौथे नंबर पर आ गया है. भारत में 100 से अधिक अरबपति हैं और इनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी टॉप पर हैं. फोर्ब्स मैगजीन की यहां जारी नई लिस्ट में यह जानकारी दी गई है.

फोर्ब्स की दुनिया के अरबपति 2017 में कुल 2,043 अरबपति शामिल हैं, जिनकी कुल संपत्ति 7,670 अरब डॉलर होने का अनुमान है. एक साल पहले के मुकाबले इन अरबपतियों की संपत्ति में 18 फीसदी की जोरदार वृद्धि हुई है.

भारत में हैं 101 अरबपति, मुकेश अंबानी सबसे अमीर: फोर्ब्स
अरबपतियों की संख्या के मामले में भारत दुनिया में चौथे नंबर पर आ गया है. भारत में 100 से अधिक अरबपति हैं और इनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी टॉप पर हैं.

'भारत में हैं 101 अरबपति'

फोर्ब्स मैगजीन के अनुसार भारत में 101 अरबपति हैं. पहली बार भारत में अरबपतियों की संख्या ने 100 का आंकड़ा पार किया है. मुकेश अंबानी इस सूची में सबसे ऊपर हैं. मुकेश अंबानी, भारत के अरबपतियों में टॉप पर हैं. 23.2 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ वह लिस्ट में 33वें स्थान पर हैं.

फोर्ब्स मैगजीन में कहा गया है कि ‘तेल-गैस क्षेत्र के इस उद्योगपति’ ने भारत के दूरसंचार उद्योग में कड़ी प्रतिस्पर्धा छेड़ दी है. उनकी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो ने पिछले साल सितंबर में भारत में 4जी सेवाओं की शुरुआत की है. मुकेश अंबानी के छोटे भाई अनिल अंबानी हालांकि, अरबपतियों की सूची में 745वें स्थान पर हैं और उनकी संपत्ति 2.7 अरब डॉलर आंकी गई है.

भारत में जन्मे पलोंजी मिस्त्री इस सूची में 77वें स्थान पर हैं और उनकी संपत्ति 14.3 अरब डॉलर आंकी गई है. वह 152 साल पुराने मुंबई मुख्यालय वाले इंजीनियरिंग समूह शापूर्जी पालोंजी समूह के मालिक हैं. इसके अलावा इंडो-रामा के सह-संस्थापक श्री प्रकाश लोहिया 5.4 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ 288वें स्थान पर हैं.

भारतीय अरबपतियों की सूची में आर्सेलर मित्तल के चेयरमैन लक्ष्मी निवास मित्तल हैं जो कि 56वें स्थान पर हैं. उनकी संपत्ति 16.4 अरब डॉलर है. इस्पात के मूल्य और मांग में हाल के दिनों में कुछ सुधार आने के बाद लक्ष्मी निवास मित्तल दूसरे सबसे धनी भारतीय बने हैं.

लिस्ट में 4 भारतीय महिलाएं भी शामिल

अरबपतियों की लिस्ट में केवल 4 महिला भारतीय शामिल हैं. इनमें सबसे ऊपर सावित्री जिंदल का स्थान है. 5.2 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ वह अरबपतियों की सूची में 303वें स्थान पर हैं. गोदरेज समूह की स्मिता कृष्णा गोदरेज 814वें स्थान पर और बायोकॉन की किरण मजूमदार शॉ 973वें स्थान पर हैं. यूएसवी इंडिया की चेयरपर्सन लीना तिवारी अरबपतियों की सूची में 1,030 वें स्थान पर रहीं.

इनके अलावा विप्रो के अजीम प्रेमजी 72वें, अदाणी समूह के संस्थापक गौतम अदाणी 250वें, बजाज समूह के चेयरमैन राहुल बजाज 544वें, निवेशक राकेश झुनझुनवाला 939वें, इनफोसिस के को-फाउंडर एन आर नारायणमूर्ति 1161वें, डाबर के चेयरमैन एमिरिटस विवेक चंद बर्मन 1,290वें, इनफोसिस के को-फाउंडर नंदन नीलेकनी 1,290वें, वॉकहार्ट के चेयरमैन हबिल खुराकीवाला 1,567वें, महिंद्रा ग्रुप के प्रमुख आनंद महिंद्रा 1,567वें, प्रापर्टी क्षेत्र की प्रमुख हस्ती निरंजन और सुरेंद्र हीरानंदानी 1,678वें और यस बैंक के प्रमुख राणा कपूर 1,795वें स्थान पर हैं.

'यूएस में सबसे अधिक अरबपति'

अमेरिका में सबसे अधिक 565 अरबपति हैं. एक साल पहले अमेरिका में अरबपतियों की संख्या 540 थी. चीन में 319, जर्मनी में 114 और भारत 101 अरबपतियों के साथ इस लिस्ट में चौथे स्थान पर पहुंच गया.

'बिल गेट्स दुनिया में सबसे अमीर'

दुनिया के अरबपतियों की लिस्ट में माइक्रोसॉफ्ट के बिल गेट्स लगातार चौथे साल टॉप पर हैं. पिछले 23 सालों के दौरान 18 साल वह दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति रहे हैं. गेट्स की संपत्ति 86 अरब डॉलर है, पिछले साल उनकी संपत्ति 75 अरब डॉलर थी. उनके बाद बर्कशायर हैथवे के प्रमुख वारेन बफे का स्थान है. उनकी संपत्ति 75.6 अरब डॉलर आंकी गई है.

लिस्ट में ट्रंप को मिला 544वां स्थान

अमेजॉन के जेफ बेजोस ने अपनी संपत्ति में 27.6 अरब डॉलर जोड़े हैं और वह 72.8 अरब डॉलर की संपत्ति के साथ तीसरे स्थान पर पहुंच गए. उन्होंने पहली बार दुनिया के टॉप थ्री में स्थान बनाया है. इससे पहले वह पांचवें नंबर पर थे. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ट ट्रंप दुनिया के अरबपतियों की लिस्ट में 544वें स्थान पर हैं. उनकी संपत्ति 3.5 अरब डॉलर आंकी गई है.

दुनिया के विभिन्न देशों में भारतीय मूल के करीब 20 लोग हैं, जिन्हें इस सूची में स्थान मिला है. सबसे ऊपर ब्रिटेन में बसे भारतीय मूल के हिन्दूजा बंधु हैं. अरबपतियों की सूची में इनका 64वां स्थान है. इनकी संपत्ति 15.4 अरब डॉलर रही है.

 

First published: March 21, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp