पाक ने भारत पर लगाए 'पाक-चीन आर्थिक गलियारे' को नाकाम करने के आरोप

आईएएनएस
Updated: February 17, 2017, 8:05 AM IST
पाक ने भारत पर लगाए 'पाक-चीन आर्थिक गलियारे' को नाकाम करने के आरोप
पाकिस्तान ने भारत पर चीन के साथ इकॉनॉमिक कॉरिडोर की योजना को नाकाम करने का आरोप लगाया है. गुरुवार को पाक की विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता नफीस जकरिया ने वीकली प्रेस ब्रीफिंग में कहा-
आईएएनएस
Updated: February 17, 2017, 8:05 AM IST
पाकिस्तान ने भारत पर चीन के साथ इकॉनॉमिक कॉरिडोर की योजना को नाकाम करने का आरोप लगाया है.  गुरुवार को पाक की विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता नफीस जकरिया ने वीकली प्रेस ब्रीफिंग में कहा-"हम भारत (सरकार) की सीपीईसी को नाकाम करने की योजना से अवगत हैं."

नफीस ने कहा- भारत महत्वाकांक्षी 46 अरब डॉलर की इस परियोजना में भारत की पाकिस्तान में दखलंदाजी कोई छिपी बात नहीं है. उन्होंने कहा कि भारत के परमाणु हथियार दक्षिण एशिया की शांति के लिए खतरा हैं और भारत द्वारा बड़े पैमाने पर हथियारों की खरीद क्षेत्रीय अस्थिरता पैदा कर सकती है.

लगाए जासूसी के भी आरोप
जकरिया के मुताबिक, बलूचिस्तान से कथित भारतीय जासूस कुलभूषण यादव को गिरफ्तार किया गया. उसे सीपीईसी के कार्य को प्रभावित करने की कोशिश के तहत पाकिस्तान में प्रवेश कराया गया था. जकरिया का दावा है कि खुद कुलभूषण ने यह बात कबूली है. जकरिया ने कहा कि आर्थिक परियोजना सीपीईसी से सिर्फ पाकिस्तान को ही नहीं, बल्कि पूरे क्षेत्र को लाभ होगा.

ये है चीन-पाक आर्थिक गलियारा परियोजना
यह पाकिस्तान-चीन इक़तिसादी राहदारी के नाम से जाना जाता है. 46 बिलियन डॉलर की भारी भरकम लागत वाली यह परियोजना पर तेजी से काम चल रहा है. इसका उद्देश्य पाकिस्तानी इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाना और उसे अपग्रेड करना है. इसका मकसद पाकिस्तान-चीन के बीच इकनॉमिक लिंक को भी गहरा और बड़ा करना है.
First published: February 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर