आईएस बर्बरता : बच्चों, दिव्यांगों से चलवाई जा रहीं आत्मघाती कारें

भाषा

Updated: February 24, 2017, 10:19 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

इस्लामिक स्टेट के जिहादी मोसुल में बच्चों और शारीरिक रूप से अशक्त लोगों को विस्फोटकों से लदे ट्रक को चलाकर इराकी सुरक्षा बलों तक ले जाने के लिए मजबूर कर रहे हैं. अमेरिकी वायु सेना के ब्रिगेडियर जनरल ने यह जानकारी दी है.

अधिकारियों ने बताया कि इस तरह की बर्बर रणनीति इस बात का संकेत है कि आईएस समूह यह जान चुका है कि उसकी हार निश्चित है. वाहनों में लगे विस्फोटकों को 'वी-बीड्स' कहा जाता है.

आईएस बर्बरता : बच्चों, दिव्यांगों से चलवाई जा रहीं आत्मघाती कारें
तस्‍वीर - फाइल फोटो

जिहादियों ने मोसुल और इराक के अन्य स्थानों पर हमला करने के दौरान इनका कई बार इस्तेमाल किया है. बगदाद में अमेरिकी वायु सेना के ब्रिगेडियर जनरल मैट इसलेर ने कहा कि आईएस समूह ने आत्मघाती कार बमों में इस तरह की आक्रामक और नई तकनीक को अपनाया है.

उन्होंने कहा कि हमने बच्चों को वीबीआईईडी में चालक के रूप में देखा है. हमने ऐसे लोगों को भी उनमें देखा है, जो चलने में सक्षम नहीं थे.

First published: February 24, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp