7 बिंदुओं में समझें कुलभूषण मामले पर ICJ का पूरा फैसला

News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 7:30 PM IST
7 बिंदुओं में समझें कुलभूषण मामले पर ICJ का पूरा फैसला
Photo: PTI
News18Hindi
Updated: May 18, 2017, 7:30 PM IST
-प्रणय उपाध्याय

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) ने कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को बड़ा झटका दिया है. आईसीजे ने अगले आदेश तक जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है. कुलभूषण जाधव को पिछले महीने पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जासूसी का दोषी पाते हुए फांसी की सजा सुनाई थी. इसके बाद भारत ने जाधव को राजनयिक सहायता उपलब्ध कराने के लिए पाकिस्तान से 16 बार आवेदन किया जिसे पाक ने हर बार ठुकरा दिया. इसके बाद जाधव के जीवन पर खतरे को देखते हुए भारत ने आईसीजे में अपील की थी.

भारत की तरफ से आईसीजे में हरीश साल्वे जाधव का केस लड़ रहे हैं. अपने फैसले में आईसीजे ने कई महत्वपूर्ण बिंदुओं को हाईलाइट किया है जो इस प्रकार हैः


  • जाधव केस (भारत बनाम पाकिस्तान) पर कोर्ट का अंतिम फैसला आने तक पाकिस्तान के कुलभूषण जाधव की फांसी रोकने के लिए हरसंभव कोशिश करनी होगी.

  • विएना कंवेंशन की व्याख्या को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद है.

  • विएना कंवेंशन कोर्ट के जुरिडिक्शन में आता है और इसको आधार बनाते हुए भारत ने जिन अधिकारों की मांग की है वे स्वीकार्य हैं.

  • भारत-पाक के बीच हुआ 2008 का बाइलेटरल एग्रीमेंट विएना कंवेंशन की व्याख्या को लेकर कोर्ट के फैसले को सीमित नहीं करता है.

  • फैसले में कहा गया कि पाकिस्तान के अनुसार जाधव को अगस्त 2017 तक फांसी नहीं दी जाएगी, लेकिन उसके बाद कभी भी फांसी दी जा सकती है. ऐसे में जाधव की जान को खतरा है, इसलिए आवेदक (भारत) की याचिका अत्यावश्य है.

  • कोर्ट ने यह भी पॉइंट आउट किया कि पाकिस्तान ने इस संबंध में कोई आश्वासन नहीं दिया है कि कोर्ट के अंतिम फैसले से पहले जाधव को फांसी नहीं दी जाएगी. इस स्थिति में पाकिस्तान जाधव की फांसी रोकने की हर संभव कोशिश करेगा और इस आदेश के पालन के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी कोर्ट को देगा.

  • अगले आदेश तक जाधव की फांसी पर रोक बनी रहेगी.

First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर