जाधव पर फैसले के बाद पाक मीडिया ने कहा- हमने ICJ में जाकर गलती की

News18.com
Updated: May 18, 2017, 6:53 PM IST
जाधव पर फैसले के बाद पाक मीडिया ने कहा- हमने ICJ में जाकर गलती की
आईसीजे ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी.
News18.com
Updated: May 18, 2017, 6:53 PM IST
कुलभूषण जाधव के मामले में पाकिस्‍तानी मीडिया ने अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट में अपने देश की रणनीति को 'कमजोर' बताया है. पाकिस्‍तानी न्‍यूज चैनलों और वेबसाइट्स ने कहा कि आईसीजे में दी गई दलीलें कमजोर और नुकसानदायक थी. डॉन अखबार की साइट ने लिखा कि इस फैसले से पाकिस्‍तान में हैरानी और निराशा है.

रिटायर्ड पाकिस्‍तानी जज शाइक उस्‍मानी ने डॉन को बताया कि पाकिस्‍तान ने अपने पैर पर कुल्‍हाड़ी मार ली. उन्‍होंने आगे कहा, 'वहां (आईसीजे) में पेश होना पाकिस्‍तान की गलती थी. उन्‍हें इसमें (सुनवाई) हिस्‍सा ही नहीं लेना चाहिए था.' राजनेता शिरीन माजरी ने भी कहा कि आईसीजे में जाना गलती थी.

लंदन में रहने वाले वकील राशिद असलम ने डॉन न्‍यूज से कहा कि पाकिस्‍तान किसी तरह से तैयार नहीं था. वह दलील देने के अपने 90 मिनट के समय का ठीक से उपयोग भी नहीं कर सका. उन्‍होंने कहा, 'पाकिस्‍तान के पास अपना पक्ष रखने के लिए 90 मिनट थे. लेकिन इसमें से 40 मिनट बर्बाद हो गए. इस बात से हैरान हूं कि हमने अपनी दलील इतनी कम समय में पूरी क्‍यों की?'

पाकिस्‍तान पीपल्‍स पार्टी के नेता शेरी रहमान ने कहा कि पाकिस्‍तान का केस कमजोर था. उन्‍होंने कहा कि जासूसी को लेकर और दलीलें दी जानी चाहिए थी.

बता दें कि आईसीजे ने कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर रोक लगा दी. कोर्ट ने कहा कि जाधव को कांसुलर से मिलने देना चाहिए था. पाकिस्‍तान की एक सैन्‍य अदालत ने जासूसी के आरोप में कुलभूषण को फांसी की सजा सुनाई थी.

ये भी पढ़ें

जानिए कौन है कुलभूषण जाधव के मामले में फैसला देने वाले आईसीजे के जज

करोड़ों की फीस लेने वाले हरीश साल्वे ने ICJ में जाधव की पैरवी के लिए सिर्फ एक रुपये
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर