पाक में छात्र पर ईशनिंदा का आरोप, भीड़ ने हॉस्टल से खींच कर मार डाला

आईएएनएस
Updated: April 15, 2017, 10:22 PM IST
पाक में छात्र पर ईशनिंदा का आरोप, भीड़ ने हॉस्टल से खींच कर मार डाला
photo : facebook/Remembering Mashal Khan
आईएएनएस
Updated: April 15, 2017, 10:22 PM IST
पाकिस्तान में ईशनिंदा के आरोप में अब्दुल वली खान विश्वविद्यालय के छात्र की हत्या का मामला सामने आया है.  एक वीडियो भी सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है. इसे शेयर कर लोगों ने बर्बरता की कड़ी निंदा की है. छात्र पर हमला करने वाली भीड़ में शामिल छात्र भी विश्वविद्यालय के ही बताए जा रहे हैं.

जान गंवाने वाला छात्र सिर्फ 23 साल का है और उसका नाम मशाल खान है. शनिवार को मलाला युसुफजई ने दुनिया में इस्लाम और पाकिस्तान की छवि खराब करने वाली ऐसी ही घटनाओं को जिम्मेदार माना.

पूरे मामले पर पाकिस्तान में नागरिक समाज संगठनों ने शनिवार को विभिन्न हिस्सों में विरोध-प्रदर्शन किया. डॉन की खबर के मुताबिक छात्र की हत्या के आरोप में 45 लोगों को अरेस्ट किया गया है.

क्या है पूरा मामला

अब्दुल वली खान यूनिवर्सिटी में पत्रकारिता के छात्र मशाल खान (23) को ईशनिंदा से संबंधित सामग्री सोशल मीडिया में पोस्ट करने के आरोप में मार डाला.

द न्यूज इंटरनेशनल की खबर के मुताबिक मशाल को सेकंड फ्लोर पर स्थित हॉस्टल के उसके कमरे से खींचकर निकाला गया. इसके बाद उसे निर्वस्त्र कर पिटाई करने के बाद गोली मारी गई फिर नीचे फेंक दिया.

कश्मीरी युवक को जीप से बांध घुमाने का वीडियो वायरल, सेना करेगी जांच

मौत नहीं हुई तो भीड़ ने पीटा 

इसके बावजूद जब तक उसकी मौत नहीं हुई भीड़ उसे पीटती रही. द नेशन की खबर के मुताबिक पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में मशाल के मौत की वजह गोली लगना बताया गया है.

मशाल के पिता ने क्या कहा

मशाल के पिता मोहम्मद इकबाल ने कहा, 'मैं न्याय चाहता हूं, क्योंकि मेरा बेटा निर्दोष था. मैं उसके ईशनिंदा करने के बारे में सोच भी नहीं सकता.'

बता दें कि मशाल के गांव में स्थित मुख्य ईदगाह में करीब 1,000 लोग नमाज-ए-जनाजा में शरीक हुए, जिनमें ज्यादातर उसके रिश्तेदार, मित्र तथा गांव के लोग थे.

सोम‍ालिया के डाकुओं ने भारतीय जहाज को अगवा किया

उधर, धार्मिक मामलों के मंत्री सरदार मोहम्मद यूसुफ ने कहा कि ईशनिंदा को माफ नहीं किया जा सकता, लेकिन कानून को अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं दी जाएगी.
First published: April 15, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर