ज्यादातर अमेरिकी चाहते हैं राष्ट्रपति के तौर पर ओबामा की वापसी: सर्वे

भाषा
Updated: February 3, 2017, 7:03 PM IST
ज्यादातर अमेरिकी चाहते हैं राष्ट्रपति के तौर पर ओबामा की वापसी: सर्वे
डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति पद संभाले अभी दो हफ्ते से भी कम समय हुआ है लेकिन ज्यादातर अमेरिकी बराक ओबामा को राष्ट्रपति के तौर पर वापस देखना चाहते हैं.
भाषा
Updated: February 3, 2017, 7:03 PM IST
डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति पद संभाले अभी दो हफ्ते से भी कम समय हुआ है लेकिन ज्यादातर अमेरिकी बराक ओबामा को राष्ट्रपति के तौर पर वापस देखना चाहते हैं. वहीं बड़ी संख्या में नागरिकों का मानना है कि ट्रंप को पद से हटा देना चाहिए.

हाल ही में हुए एक सर्वे में यह बात सामने आई है. पब्लिक पॉलिसी पोलिंग की ओर से कराए गए इस सर्वे में 52 प्रतिशत लोगों ने ओबामा के शासनकाल के अच्छे दिनों की याद करते हुए कहा कि वह राष्ट्रपति के तौर पर ओबामा को वापस देखना चाहते हैं. सिर्फ 43 प्रतिशत जनता ट्रंप के सत्ता में होने से खुश है.

पब्लिक पॉलिसी पोलिंग के अध्यक्ष डीन डेबनाम ने कहा कि आमतौर पर निर्वाचित राष्ट्रपति की लोकप्रियता चरम पर होती है और इसलिए कार्यभार संभालने के बाद वह वक्त का भरपूर लुत्फ उठाते हैं. लेकिन ट्रंप ने एक बार फिर से इतिहास रचा है जिसमें बड़ी संख्या में लोग उन पर महाभियोग चलाना चाहते है और बड़ी संख्या में लोगों में ओबामा को दोबारा राष्ट्रपति के रूप में देखने की हसरत है. सर्वे के मुताबिक 40 प्रतिशत लोग ट्रंप पर महाभियोग चलाना चाहते हैं जिनमें से 35 प्रतिशत लोग एक हफ्ते पहले ही उन पर महाभियोग चलाना चाहते थे.

सर्वे में शमिल हुए लोग आव्रजन (इमिग्रेशन) पर ट्रंप के आदेश पर बंटे हुए दिखाई दिए. इस मामले में 47 प्रतिशत जनता ने इसका समर्थन किया वहीं 49 प्रतिशत इसके विरोध में दिखे. लेकिन अगर समग्र परिदृश्य को देखा जाए जो यह कार्यकारी आदेश स्पष्ट रूप से अलोकप्रिय दिखाई दिया. 52 प्रतिशत लोगों को लगा कि यह मुसलमानों पर बैन है केवल 41 प्रतिशत ने इसे मुसलमानों पर बैन नहीं माना.

सर्वे के अनुसार मुसलमानों की एंट्री पर बैन का ख्याल अमेरिकी जनता को पसंद नहीं है. 26 प्रतिशत लोग इसके पक्ष में हैं वहीं 65 प्रतिशत इसके विरोध में दिखाई दिए. पब्लिक पॉलिसी पोलिंग ने सूचीबद्ध (लिस्टेड) 725 प्रतिभागियों से 30 और 31 जनवरी के बीच सर्वे कर नतीजे जारी किए हैं.
First published: February 3, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर