उत्तर कोरिया ने क्‍यों दागी 'असफल मिसाइल'?

भाषा
Updated: April 16, 2017, 4:21 PM IST
उत्तर कोरिया ने क्‍यों दागी 'असफल मिसाइल'?
अमेरिका के तमाम विरोध और दबाव के बावजूद उत्तर कोरिया ने एक मिसाइल परीक्षण किया है. हालांकि प्रक्षेपण असफल हो गया.
भाषा
Updated: April 16, 2017, 4:21 PM IST
अमेरिका के तमाम विरोध और दबाव के बावजूद उत्तर कोरिया ने एक मिसाइल परीक्षण किया है. हालांकि प्रक्षेपण असफल हो गया. अमेरिकी रक्षा मंत्रालय की ओर से इस बारे में जानकारी दी गई. अमेरिका सुरक्षा के लिहाज से इस मिसाइल परीक्षण का विरोध कर रहा था. इस असफल परीक्षण को लेकर दुनियाभर में चर्चा है कि आखिर वो कौन सा मिसाइल है जिसका परीक्षण किया गया.

विमान हाइजैक की धमकी, तीन हवाई अड्डों पर सुरक्षा बढ़ी

यूएस पैसेफिक कमांड ने एक बयान में बताया, ‘मिसाइल में करीब—करीब तुरंत ही विस्फोट हो गया. मिसाइल किस प्रकार की थी, इसका आकलन किया जा रहा है.’ बयान के अनुसार, यूएस पैसेफिक कमांड ने अब तक जो आकलन किया है उसके अनुसार, उत्तर कोरिया ने 15 अप्रैल को अंतरराष्ट्रीय समयानुसार, 21 बजकर 21 मिनट पर मिसाइल प्रक्षेपित किया.

 

यूएस पैसेफिक कमांड के प्रवक्ता सीडीआर डेव बेनहैम ने बताया, ‘बैलिस्टिक मिसाइल का प्रक्षेपण सिन्पो के करीब किया गया.’ बेनहैम ने कहा कि यूएस पैसेफिक कमांड सुरक्षा बनाए रखने के लिए कोरिया गणराज्य तथा जापान में अपने सहयोगियों के साथ करीब से काम करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है.

इस असफल परीक्षण के एक दिन पहले ही उत्तर कोरिया के संस्थापक किम इल सुंग के 105 वें जन्मदिन पर आयोजित एक विशाल सैन्य परेड में प्योंगयांग ने करीब 60 मिसाइलों का प्रदर्शन किया था. समझा जाता है कि इन करीब 60 मिसाइलों में एक नयी अंतरद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल भी थी.

इस बीच, अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस ने कहा है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनका सैन्य दल इस मिसाइल प्रक्षेपण से अवगत हैं. मैटिस ने कहा, ‘राष्ट्रपति और उनका सैन्य दल उत्तर कोरिया के नवीनतम असफल मिसाइल प्रक्षेपण के बारे में जानते हैं. राष्ट्रपति ने कोई टिप्पणी नहीं की है.’

ये मिसाइल परीक्षण ठीक कुछ मिनटों बाद उस वक्त किया गया जब अमेरिका के उप राष्ट्रपति माइक पेंस ने अलास्का से सियोल के लिए उड़ान भरा. वह वहां उत्तर कोरिया से अमेरिका के रिश्ते सुधारने की दिशा में बातचीत करने पहुंचे हैं.
First published: April 16, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर