पाक एयरलाइंस ने तोड़े नियम, फ्लाइट में 7 यात्रियों को खड़े-खड़े जाना पड़ा मदीना

भाषा
Updated: February 26, 2017, 8:57 PM IST
पाक एयरलाइंस ने तोड़े नियम, फ्लाइट में 7 यात्रियों को खड़े-खड़े जाना पड़ा मदीना
File Photo - PIA twitter
भाषा
Updated: February 26, 2017, 8:57 PM IST
पाकिस्तान एयरलाइंस के फ्लाइट नियमों में उल्लंघन का हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. पाक की सरकारी एयरलाइन पीआईए ने पिछले महीने सउदी अरब तक पूरे रास्ते सात मुसाफिरों को खड़े-खड़े यात्रा करने की इजाजत दे दी. इसके बाद घाटे से जूझ रही पीआईए को इन सुरक्षा नियमों के गंभीर उल्लंघन की जांच करनी पड़ रही है.

समाचारपत्रा डॉन की खबर के अनुसार, पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस की उड़ान पीके-743, 20 जनवरी को कराची से मदीना के लिए उड़ी. तीन घंटे के इस सफर के दौरान फ्लाइट में बैठे सात यात्रियों को पूरे रास्ते खड़े होकर यात्रा करने के लिए मजबूर होना पड़ा. ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि विमान में सीटों की संख्या से ज्यादा मुसाफिर चढ़ गए थे.

अखबार के हवाले के मिली जानकारी में कहा गया कि ऐसा माना जा रहा है कि पीआईए प्रबंधन घटना को गंभीरता से नहीं ले रहा है क्योंकि इस विचित्र घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है. पीआईए के प्रवक्ता दानयाल गिलानी ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है. गिलानी ने बीबीसी से कहा कि आंतरिक जांच शुरू कर दी गई है और जिम्मेदारी तय करने के बाद उचित कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि अगर कोई कुछ गलत करने का जिम्मेदार पाया जाता है तो पीआईए कंपनी नियमों के मुताबिक उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगी.

गौरतलब है कि पीआईए के इस बोइंग 777 विमान में 409 सीटें थीं, जिसमें स्टाफ के लिए जंप सीटें भी शामिल थीं. लेकिन कराची से मदीना तक की इस फ्लाइट में 416 यात्रियों को सफर करने की परमिशन दी गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि खड़े-खड़े सात यात्रियों को सफर करने देना, हवाई सुरक्षा का गंभीर उल्लंघन है क्योंकि आपात स्थिति के मामले में बिना सीट वाले मुसाफिरों को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती. इसके अलावा, इमरजेंसी की स्तिथी में ही निकासी के दौरान अतिरिक्त लोगों की वजह से भीड़-भाड़ वाली गंभीर स्थिति बन सकती थी.

सूत्रों ने बताया कि अतिरिक्त यात्रियों को दिए गए बोर्डिंग पास हाथ से लिखे हुए थे न कि कंप्यूटरीकृत थे. रिपोर्ट में कहा गया है कि एयरलाइंस के ग्राउंड स्टाफ की ओर से विमान के चालक दल को कंप्यूटर के जरिए दी गई सूची में अधिक मुसाफिर होने की बात का जिक्र नहीं था.
First published: February 26, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर