बच्चों की जान बचाने कैमरा छोड़ दौड़ गया फोटोग्राफर, लेकिन...

News18Hindi
Updated: April 20, 2017, 8:05 AM IST
बच्चों की जान बचाने कैमरा छोड़ दौड़ गया फोटोग्राफर, लेकिन...
Image Source: Twitter
News18Hindi
Updated: April 20, 2017, 8:05 AM IST
ट्विटर पर अक्सर सीरिया से जुड़ी मार्मिक तस्वीरें देखने को मिलती हैं लेकिन सीरिया से आई इन तस्वीरों ने ट्विटर यूज़र्स को हिला कर रख दिया . एक सीरियाई फोटोग्राफर अब्द अलकादिर हबक ने अपने हाथ में मौजूद कैमरे को नीचे रख दिया, ताकि वो बम धमाके में घायल हुए बच्चों की जान बचा सके.

यह भी पढ़ें- बद से बदतर हुए 6 साल में सीरिया के हालात

अब्द अलकादिर धमाके के बाद दौड़कर एक बच्चे के पास गए पर तब तक वो मर चुका था, उसके बाद उन्होंने दूसरे बच्चे को देखा, जो संभवतः मर चुका था, वह टूट गए और फफक कर रोने लगे. इस पूरे दृश्य को एक दूसरे कैमरामैन ने अपने कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया.

ख़बरों के मुताबिक़ पिछले हफ्ते शरणार्थियों को लेकर आ रही बस के आसपास एक बम धमाका हुआ. इस हमले में 126 लोगों की मौत हुई, जिनमें 80 से ज़्यादा छोटे-छोटे बच्चे थे. उसी समय फोटोग्राफर और सामाजिक कार्यकर्ता अब्द अल्कादर हबक पास ही अपने काम में जुटे हुए थे. धमाके के बाद वो और कुछ देर के लिए वह भी बेहोश हो गए थे.











यह भी पढ़ें- सिविल वॉर के कारण 50 लाख से ज्यादा सीरियाई नागरिकों ने देश छोड़ा

उन्होंने सीएनएन को बताया, "दृश्य बेहद भयावह था. खासतौर से छोटे-छोटे बच्चों को अपनी आंखों के सामने तड़पते और मरते देखना. सो, मैंने अपने साथियों के साथ फैसला किया कि हम लोग अपने कैमरे एक तरफ रख दें, और घायलों को बचाना शुरू कर दें."
First published: April 20, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर