रूस पर लगाए ओबामा के प्रतिबंधों को हटा सकते हैं ट्रंप, अगर पुतिन पूरी कर दें ये शर्त!

भाषा
Updated: January 14, 2017, 7:44 PM IST
रूस पर लगाए ओबामा के प्रतिबंधों को हटा सकते हैं ट्रंप, अगर पुतिन पूरी कर दें ये शर्त!
Photo: Getty Images
भाषा
Updated: January 14, 2017, 7:44 PM IST
वॉशिंगटन। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संकेत दिया है कि वह रूस पर लगे प्रतिबंध हटा सकते हैं। ट्रंप ने इसके साथ ही संकेत दिए कि अगर चीन अपनी मुद्रा और व्यापार नीतियों में सुधार नहीं करता है तो वह ‘वन चाइना’ नीति के साथ खड़े नहीं होंगे।

ट्रंप ने ‘द वॉल स्ट्रीट जरनल’ में प्रकाशित एक इंटरव्यू में कहा कि वह अमेरिकी चुनाव को प्रभावित करने के लिए मास्को के कथित साइबर हमलों को लेकर पिछले महीने रूस पर अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के प्रशासन द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों को ‘कम से कम कुछ समय के लिए’ बरकरार रखेंगे। उन्होंने कहा कि लेकिन अगर रूस हिंसक अतिवाद से निपटने जैसे अहम लक्ष्यों को हासिल करने में अमेरिका की मदद करता है तो वह दंडात्मक कदमों को हटा सकता है।

ट्रंप ने कहा कि वह 20 जनवरी को कार्यभार ग्रहण करने के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करने को तैयार हैं। ट्रंप ने पुतिन की सराहना की और केवल अनिच्छा से अमेरिकी खुफिया के इस निष्कर्ष को स्वीकार किया कि रूसी हैकरों ने पुतिन के आदेश पर अमेरिकी चुनाव में हस्तक्षेप किया।

ताइवान को राजनयिक रूप से मान्यता नहीं देने की अमेरिका की पुरानी नीति पर बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि वन चाइना समेत हर चीज पर वार्ता की जा रही है। ट्रंप के चुनाव जीतने के बाद ताइवान के राष्ट्रपति साई इंग वेन ने उन्हें बधाई देने के लिए फोन किया था। ट्रंप ने फोन पर वेन की बधाई स्वीकार करके चीन को पहले ही नाराज कर दिया है।

ट्रंप ने इंटरव्यू में इस कदम का बचाव करते हुए कहा कि हमने पिछले साल उन्हें दो अरब डॉलर सैन्य उपकरण बेचे। हम उन्हें दो अरब डॉलर के आधुनिक सैन्य उपकरण बेच सकते हैं लेकिन हमें फोन कॉल स्वीकार करने की अनुमति नहीं है। पहली बात तो यह है कि फोन पर बात नहीं करना बहुत ही अशिष्ट व्यवहार होता।
First published: January 14, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर