10 देश करेंगे समुद्र की सफाई, प्‍लास्‍टिक प्रदूषण के खिलाफ यूएन की जंग

आईएएनएस

Updated: February 24, 2017, 10:45 AM IST
facebook Twitter google skype whatsapp

यूएन एन्वायरन्मेंट ने अब समुद्र  को साफ करने का बीड़ा उठाया है. गुरुवार को बाली में इकोनॉमिस्ट वर्ल्ड ओशियन सम्मिट के दौरान हैशगटैग क्लीनसी अभियान शुरू किया गया. अभियान में 10 शामिल हैं जो समुद्र को गंदा करने वाले स्रोतों को खत्‍म करेंगे.

इन देशों में बेल्जियम, कोस्टा रिका, फ्रांस, ग्रेनाडा, इंडोनेशिया, नॉवे, पनामा, सेंट लुसिया, सियेरा लियोन तथा उरुग्वे शामिल हैं. अभियान की शुरुआत करने वाले एरिक सोल्हेम ने कहा, "प्लास्टिक पल्‍यूशन इंडोनेशिया के समुद्र तटों पर साफ नजर आता है, उत्तरी ध्रुव में समुद्र की सतह पर बैठ रहा है और अंतत: कई तरह से होता हुआ हमारे खाने पीने की चीजों में पहुंच रहा है."

10 देश करेंगे समुद्र की सफाई, प्‍लास्‍टिक प्रदूषण के खिलाफ यूएन की जंग
यूएन एन्वायरन्मेंट ने अब समुद्र को साफ करने का बीड़ा उठाया है. गुरुवार को बाली में इकोनॉमिस्ट वर्ल्ड ओशियन सम्मिट के दौरान हैशगटैग क्लीनसी अभियान शुरू किया गया.

ये होगा अभियान में

>अभियान में सरकारों से प्लास्टिक को कम की पॉलिसी लागू करने की अपील की गई है.

>प्लास्टिक पैकेजिंग को कम और प्लास्टिक प्रोडक्‍ट्स को रिडिजाइन करने वाली इंडस्‍ट्रीज की पहचान करें.

>लोगों से प्लास्टिक का कम से कम यूज करने और फेंकने की आदत में बदलाव अपील.

तेजी से बढ़ रहा है समुद्री प्रदूषण

बीते कुछ सालों में समुद्री प्रदूषण बहुत ही तेजी से बढ़ा है. यूनाइटेड नेशन्‍स के अनुसार आने वाले समय में समुद्र में बॉटल, बैग्‍स और दूसरी प्‍लास्‍टिक चीजों के चलते 2050 तक समुद्र में इतना प्‍लास्‍टिक बढ़ जाएगा कि समुद्री जीवन ही मुश्‍किल में आ जाएगा.

पहले भी बनाए गए हैं कानून

यूनाइटेड नेशन पहले भी समुद्री प्रदूषण के खिलाफ कानून बना चुका है, लेकिन यह ठीक से लागू नहीं हो पाया है. 20 के दशक में इंटरनेशनल लॉ बनाए गए थे, जबकि इधर 1950 के दशक की शुरुआत में भी समुद्र की सफाई के लिए कानून को लेकर यूनाइटेड नेशन्‍स में कई सेमिनार में समुद्री प्रदूषण पर चिंता व्यक्त जाहिर की गई थी.

First published: February 24, 2017
facebook Twitter google skype whatsapp