वैज्ञानिकों ने खोजा पानी से हाइड्रोजन-ऑक्सीजन को अलग करने का तरीका

भाषा
Updated: May 18, 2017, 12:50 PM IST
वैज्ञानिकों ने खोजा पानी से हाइड्रोजन-ऑक्सीजन को अलग करने का तरीका
File Photo
भाषा
Updated: May 18, 2017, 12:50 PM IST
यूनिवर्सिटी ऑफ ह्यूस्टन के भौतिकविदों ने पानी से हाइड्रोजन और ऑक्सीजन अलग करने का एक नया तरीका निकाला है. यह तरीका भविष्य में स्वच्छ हाइड्रोजन ईंधन तैयार करने का प्रभावी तरीका हो सकता है. यूनिवर्सिटी ने विज्ञप्ति में बताया कि यह खोज पानी से हाइड्रोजन निकालने की प्राथमिक बाधाओं में से एक को दूर करती है. इस दल के सदस्यों में से एक पाउल सी डब्ल्यू चू ने कहा कि हाइड्रोजन सबसे क्लीन प्राइमरी एनर्जी सोर्स है.

अगर कोई उत्प्रेरक की मदद से पानी में ऑक्सीजन के मजबूत बॉन्ड से हाइड्रोजन को अलग करे तो पानी हाइड्रोजन का सबसे प्रचुर स्रोत हो सकता है. पानी को हाइड्रोजन और ऑक्सीजन में अलग करने के लिए प्रत्येक तत्व के लिए दो प्रतिक्रिया की जरूरत होती है.

ऑक्सीजन के हिस्से के समीकरण के लिए प्रभावी उत्प्रेरक को अर्जित करना मुख्य परेशानी का सबब होता है, जिसके बारे में रिसर्चर्स का कहना है कि उन्होंने अब इसे प्राप्त कर लिया है. यह उत्प्रेरक लौह मेटाफॉस्फेट और एक कंडक्टिव निकेल फोम प्लेटफॉर्म का बना होता है.

रिसर्चर्स का कहना है कि इन पदाथरें का मिश्रण मौजूदा समय के समाधान से ज्यादा प्रभावी और कम खर्चे वाला है. यह परीक्षण में बहुत ज्यादा टिकाउपन भी दिखाता है क्योंकि यह 20 घंटे और 10,000 चक्रों के बाद भी बिना किसी प्रतिक्रिया के संचालित होता है. इस नए तरीके का इस्तेमाल करने का मतलब यह है कि अब बिना कार्बन उत्सर्जन के ही हाइड्रोजन उत्पादित किया जा सकता है.

देश और दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.
First published: May 18, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर