भारतीय इंजीनियर की हत्या पर यूएस कांग्रेस में शोक, ट्रंप ने की निंदा

News18Hindi
Updated: March 1, 2017, 10:55 AM IST
भारतीय इंजीनियर की हत्या पर यूएस कांग्रेस में शोक, ट्रंप ने की निंदा
PTI Image
News18Hindi
Updated: March 1, 2017, 10:55 AM IST
अमेरिका का राष्ट्रपति बनने के बाद डोनाल्ड ट्रंप ने आज यूएस कांग्रेस को संबोधित किया. ट्रंप ने अमेरिका और दुनिया से संबंधित कई मुद्दों को अपने भाषण में शामिल किया. वहीं यूएस कांग्रेस ने  बीते दिनों कंसास में हुई भारतीय की हत्या पर एक मिनट का मौन भी रखा . साथ ही ट्रंप ने इस हमले की निंदा भी की है.

अपने भाषण में ट्रंप ने देश की आर्थिक स्थिति को सुधारने पर बल दिया है. स्वास्थ्य सेवाओं को अच्छा करने और रक्षा क्षेत्र में खर्च को बढ़ाने की बात की है. उन्होंने कहा है कि देश की सुरक्षा के लिए बजट 10 प्रतिशत की दर से बढ़ाया जाएगा.

ट्रंप ने अमेरिका के लोगों को कहा कि हम एक हैं, हमारा खून एक है, हमें एक ही भगवान ने बनाया है. हमारा उद्देश्य भी एक है. हम दुनिया में शांति चाहते हैं, युद्ध नहीं.   उन्होंने साफ कर दिया कि उनकी नीति है, बाय अमेरिकन, हायर अमेरिकन, यानि अमेरिका की वस्तु खरीदो और अमेरिकन को नौकरी पर रखो.



ट्रंप ने कहा कि हम ऐसा देश हैं जो हमेशा एकता के साथ नफरत और बुराई की निंदा करता है.  उन्होंने कहा कि आज मैं जो भी बोल रहा हूं वह अपने दिल से बोल रहा है. उन्होंने कहा कि वह एकता और ताकत का संदेश देने आए हैं.

ट्रंप ने कहा कि आज मैं जो भी बोल रहा हूं वह अपने दिल से बोल रहा है. मैं एकता और ताकत का संदेश देने आया हूं. हमने दूसरे देशों की सीमाओं की रक्षा की है और अपनी सीमाओं को खुला छोड़ा दिया ताकि कोई भी सीमा के भीतर आ सके. अमेरिका को अपने नागरिकों को पहले रखना होगा. इसी के बाद हम अमेरिका को सही मायने में फिर महान बना सकेंगे.

यूएस राष्ट्रपति ने कहा कि देश में मरते उद्योगों को फिर से जिंदा किया जाएगा. देश के लिए अपनी सेवाओं को देने वालों का ध्यान रखा जाएगा. यह उनकी जरूरत भी है और हमारी जिम्मेदारी भी है. हम उन रास्तों को बंद करेंगे जहां से देश में ड्रग्स आती है और हमारे युवाओं को जहर दिया जा रहा है.देश की दक्षिणी सीमाओं पर ग्रेट वॉल का निर्माण जल्द शुरू किया जाएगा.

देश में इस्लामिक कट्टरपंथी आतंकवाद को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जाएंगे. जिन लोगों को अमेरिका में आने का सम्मान मिला है उन्हें यहां अमेरिका को सपोर्ट करना चाहिए और यहां के मूल्यों का सम्मान करना चाहिए. हम अपने देश को कट्टरपंथियों की सैंक्चुअरी नहीं बनने देंगे. मैंने रक्षा मंत्रालय को निर्देश दिया है कि वह आईएसआईएस को मिटाने के लिए एक प्लान तैयार करें. हमने इस्राइल के साथ न टूटने वाले अपने संबंधों के प्रति कटिबद्धता जताई है.
First published: March 1, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर