ट्रंप बोले, कड़ी जांच के बाद ही पाकिस्तानियों का अमेरिका में इंट्री

आईएएनएस
Updated: January 27, 2017, 10:33 PM IST
ट्रंप बोले, कड़ी जांच के बाद ही पाकिस्तानियों का अमेरिका में इंट्री
Getty Images
आईएएनएस
Updated: January 27, 2017, 10:33 PM IST
आतंकावाद विरोधी बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान के नागरिकों को लेकर कड़ा रुख अख्तियार किया है. राष्ट्रपति बनने के बाद अपने पहले इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि पाक से अमेरिका आने वाले नागरिकों को कड़ी जांच का सामना करना पड़ेगा.

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि अफगानिस्तान, पाकिस्तान तथा सऊदी अरब उन देशों में शामिल नहीं है, जिनके नागरिकों को अमेरिका आने के लिए वीजा प्रतिबंध का सामना करना पड़ेगा लोकिन इन देशों के नागरिकों को कड़ी जांच का सामना करना पड़ेगा."

एबीसी न्यूज को दिए एक साक्षात्कार में उन्होंने कहा, 'हम (अमेरिका) लोगों (पाकिस्तान, सऊदी अरब तथा अफगानिस्तान निवासी) को इस देश में आने की मंजूरी क्यों देने जा रहे हैं

इस सवाल का जवाब भी ट्रंप ने दिया और कहा, 'हम कुछ देशों के लोगों को अमेरिका आने की मंजूरी नहीं दे रहे हैं. लेकिन अन्य देशों के लोगों की हम कड़ी जांच करेंगे. अमेरिका आना बेहद मुश्किल होगा. अभी तक यह बेहद आसान था. लेकिन अब यह बहुत, बहुत मुश्किल होने जा रहा है. हम इस देश में आतंकवाद नहीं चाहते हैं.'

ट्रंप का इंटरव्यू गुरुवार को प्रसारित हुआ. बीते 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद यह उनका पहला साक्षात्कार था, जिसमें उनसे ओबामाकेयर से लेकर आव्रजन और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई जैसे व्यापक विषयों पर बातचीत की गई.

ट्रंप ने कहा कि उनकी योजना कई मुस्लिम देशों के लोगों का अमेरिका में प्रवेश बंद करना है, क्योंकि दुनिया 'पूरी तरह अव्यवस्थित' हो गई है. उन्होंने इस बात से इनकार किया कि यह मुसलमानों पर प्रतिबंध है. उन्होंने कहा, "नहीं, यह मुसलमानों पर प्रतिबंध नहीं, बल्कि उन देशों के लोगों पर प्रतिबंध है, जो आतंकवाद ग्रस्त हैं."

उन्होंने कहा, "इन देशों के लोग अमेरिका आ रहे हैं और इससे समस्याएं गंभीर होती जा रही हैं. हमारे देश में पहले से ही पर्याप्त समस्याएं हैं. इन कई समस्याओं या कुछ समस्याओं के परिणाम तो घातक हो सकते हैं."

ट्रंप ने उन देशों का नाम लेने से मना कर दिया, जिनके बारे में वह बात कर रहे थे, लेकिन कहा कि यूरोप ने उन लोगों को जर्मनी तथा अन्य देशों में आने की मंजूरी देकर भारी गलती की और आप सबको इसपर ध्यान देना है, क्योंकि जो भी वहां हो रहा है वह भयंकर मुसीबत है.
First published: January 27, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर