वेनेजुएला में विरोध के बाद नोटबंदी के फैसले पर लगी रोक

भाषा
Updated: December 19, 2016, 9:42 AM IST
वेनेजुएला में विरोध के बाद नोटबंदी के फैसले पर लगी रोक
नेजुएला में विरोध बढ़ने के साथ समस्या में घिरे राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने देश में बड़े नोटों को चलन से हटाने का फैसला दो जनवरी तक टाल दिया है।
भाषा
Updated: December 19, 2016, 9:42 AM IST
कराकस। वेनेजुएला में विरोध बढ़ने के साथ समस्या में घिरे राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने देश में बड़े नोटों को चलन से हटाने का फैसला दो जनवरी तक टाल दिया है। मादुरो ने कहा कि 100 बोलिवर का नोट अस्थायी रूप से वैध मुद्रा बनी रहेगी लेकिन कोलंबिया और ब्राजील से लगी सीमा बंद रहेगी ताकि माफिया ने जो वेनेजुएला की मुद्रा अपने पास जमा कर रखी है, वे इससे प्रभावित हों। उन्होंने कहा कि यह देश को अस्थिर करने की साजिश है जिसे अमेरिका समर्थन दे रहा है।

मादुरो ने सरकारी टेलीविजन पर कहा कि आप शांति के साथ 100 रुपये के नोट का उपयोग अपनी खरीद और अन्य गतिविधियों के लिए कर सकते हैं। यह नोट 15 यूएस सेंट के बराबर है और वेनेजुएला में कुल मुद्रा का यह 77 प्रतिशत है। अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष के अनुसार वेनेजुएला में मुद्रास्फीति 475 प्रतिशत पर पहुंच गई है जो दुनिया में सर्वाधिक है।

सरकार पुराने नोट से 200 गुना तक उच्च मूल्य वर्ग के नोट की नई मुद्रा जारी करने की कोशिश कर रही थी लेकिन मादुरो ने नए नोट आने से पहले ही 100 बोलिवर नोट पर बैन लगा दिया। मादुरो ने कहा कि चार हवाईजहाज नई मुद्रा लेकर विदेश से पहुंचने वाले थे लेकिन अंतरराष्ट्रीय धोखाधड़ी के चलते इनके पहुंचने में देरी हुई। हालांकि, उन्होंने ना तो यह बताया कि मुद्रा कहां से आ रही थी और किस तरह की साजिश की गई।
First published: December 19, 2016
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर