होम » फोटो » देश

फांसी से नहीं, सीने पर गोली खाकर शहीद होना चाहते थे भगत सिंह

Mar 23, 2017, 07:10 PM

उर्दू और अंग्रेजी में लिखी गई भगत सिंह की जेल डायरी के पन्ने अब पुराने हो चले हैं लेकिन इसमें दर्ज एक-एक शब्द सरफरोशी की समां जला देते हैं. इसमें एक जगह वह लिखते हैं कि दिल दे तो इस मिजाज का परवरदिगार दे, जो गम की घड़ी भी खुशी से गुजार दे....

ओम प्रकाश
Latest